नई दिल्ली : भारत के ऑल राउंडर वजय शंकर ने रविवार को कहा कि तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी के लिये उतारा जाना उनके लिये हैरानी भरा था और ऑस्ट्रेलिया व न्यूजीलैंड के पहले दौरे के बाद वह काफी सुधरे क्रिकेटर के तौर पर स्वदेश लौटेंगे. शंकर ने न्यूजीलैंड के खिलाफ तीन टी-20 इंटरनेशनल मैचों में से दो में तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी की. उन्होंने अंतिम मैच में 28 गेंद में 43 और सीरीज के पहले मैच में 23 रन बनाये.

उन्होंने वनडे में पदार्पण ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मेलबर्न में किया था और न्यूजीलैंड के खिलाफ वह पांच वनडे में से तीन में और सभी टी-20 मैचों में खेले थे. 28 साल के खिलाड़ी ने हालांकि विश्व कप स्थान के लिये दावेदारी बनाने के लिये मजबूत प्रदर्शन भले ही नहीं किया हो लेकिन उन्होंने अपनी हरफनमौला काबिलियत से प्रभावित किया.

वर्ल्ड कप 2019: ऑस्ट्रेलियाई कोच ने टीम पर जताया भरोसा, कहा- हम खिताब बचाने में सक्षम

शंकर ने कहा कि वह बल्लेबाजी क्रम में ऊपर खेलना पसंद करेंगे. उन्होंने तीसरे टी-20 में चार रन की हार के बाद कहा, ‘‘यह मेरे लिये बहुत हैरानी की बात थी, जब उन्होंने मुझे तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी के लिये कहा. यह बड़ी चीज है. मैं इस स्थिति में खेलने के लिये तैयार था. अगर आप भारत जैसी टीम के लिये खेल रहे हो तो आपको हर चीज के लिये तैयार रहना चाहिए.’’

VIDEO: मैदान पर तिरंगा लेकर पैर छूने पहुंचा फैन, धोनी ने कुछ इस तरह जीता देश का दिल

उन्होंने कहा, ‘‘ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के खिलाफ इन दोनों श्रृंखलाओं से मैंने काफी कुछ सीखा. मैंने भले ही ज्यादा गेंदबाजी नहीं की हो लेकिन मैंने विभिन्न हालात में गेंदबाजी करना सीखा. बल्लेबाजी में विराट कोहली, रोहित शर्मा और महेंद्र सिंह धोनी जैसे सीनियर खिलाड़ियों को देखने से मैंने काफी कुछ सीखा. ’’