कोविड-19 (COVID-19)वैश्विक महामारी के चलते टोक्यो ओलंपिक 2020 (Tokyo 2020 Games) को एक साल के लिए स्थगित कर दिया गया है. हालांकि इस समय विश्व की लगभग सभी खेल प्रतियोगिताएं या तो स्थगित कर दी गई हैं या उन्हें रद्द कर दिया गया है. भारतीय खिलाड़ियों ने टोक्यो ओलंपिक के टाले जाने पर खुशी जताई. खिलाड़ियों का कहना है कि वर्तमान स्थिति को देखते हुए आईओसी ने सही फैसला लिया. भारतीय खिलाड़ी इस समय टोक्यो ओलंपिक की जमकर तैयारी कर रहे थे. Also Read - मध्य Railway की लोगों से अपील, ट्रेनों में भीड़ की फर्जी वीडियो को ना शेयर करें लोग

पदक की प्रबल दावेदार भारतीय महिला पहलवान विनेश फोगाट (Vinesh Phogat) का कहना है कि टोक्यो ओलंपिक का स्थगित होना उनका ‘सबसे बुरा सपना’ था और आगे का लंबा इंतजार इन खेलों में भाग लेने से अधिक कड़ा होगा. Also Read - BMC Guidelines For Holi 2021: कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच होली को लेकर BMC ने जारी किया आदेश, जानें क्या हैं दिशा निर्देश....

COVID-19: नताशा स्टेनविक ने हार्दिक पांड्या संग Self-Isolation की तस्वीर शेयर कर दिया फैंस को ये मैसेज Also Read - Mumbai में बढ़ती Covid-19 महामारी के बीच 7 रेहड़ी-पटरी वाले कोरोना वायरस से संक्रमित मिले

जब विनेश को टोक्यो ओलंपिक के स्थगित होने के बारे में पता चला तो वह निराशा में डूब गईं. विनेश ने सोशल मीडिया ट्विटर पर जारी बयान में कहा, ‘यह किसी भी खिलाड़ी का सबसे बुरा सपना होता है और यह सच साबित हुआ. सभी जानते हैं कि ओलंपिक में खेलना एक खिलाड़ी के लिए सबसे मुश्किल चुनौती होती है लेकिन अब इस स्तर पर मौके का इंतजार करना उससे भी कड़ा है.’

उन्होंने कहा, ‘मैं वास्तव में नहीं जानती कि अभी क्या कहना है लेकिन मेरे अंदर भावनाओं का ज्वार उमड़ रहा है.’ रियो ओलंपिक से चोट के कारण जल्दी बाहर हुई विनेश भारत की पदक उम्मीदों में से हैं. उन्होंने पिछले साल विश्व चैम्पियनशिप में पदक जीतकर टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई किया था.


बटलर ने IPL को बताया विश्व क्रिकेट का सबसे बड़ा टूर्नामेंट, जताई छोटे रूप में आयोजन की उम्मीद

बकौल विनेश,‘दुनिया के लिए यह कठिन समय है. मैं भी निराश हूं लेकिन हमें निराशा में ही आशा की किरण तलाशनी होगी.’ कोविड-19 से भारत में 600 से अधिक लोग संक्रमित हैं जबकि 13 लोगों की इसके चपेट मे आने से जान जा चुकी है. विश्व में 15 हजार से अधिक लोग जान गंवा चुके हैं जबकि चार लाख से अधिक लोग संक्रमित हैं.