नई दिल्ली: ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान स्टीव वॉ का मानना है कि हाल में दक्षिण अफ्रीका दौरे पर विराट कोहली जरूरत से ज्यादा आक्रामक थे, लेकिन यह करिश्माई भारतीय कप्तान के रूप में उनके विकास का हिस्सा है. भारत ने दक्षिण अफ्रीका के 58 दिवसीय दौरे पर प्रभावी प्रदर्शन किया, जिसमें टीम ने टेस्ट श्रृंखला 1-2 से गंवाने के बाद वनडे और टी20 अंतरराष्ट्रीय श्रृंखला क्रमश: 5-1 और 2-1 से जीती.

वॉ ने मोनाको में लारेस विश्व खेल पुरस्करों के इतर कहा, ‘‘मैंने उसे दक्षिण अफ्रीका में देखा और मुझे लगता है कि वह जरूरत से ज्यादा कर रहा था लेकिन यह कप्तान के लिए सीखने की चीज है.’’ वॉ ने कहा कि कोहली को संतुलन बनाने की जरूरत है क्योंकि टीम में सभी खिलाड़ी उनकी तरह खुद को अभिव्यक्त करने वाले नहीं हैं.

कप्तान बनने के बाद अश्विन का बयान, टीम इंडिया में वापसी पर कही ये बड़ी बात

उन्होंने कहा, ‘‘कप्तान के रूप में वह अब भी विकास कर रहा है और अपने रोमांच और भावनाओं को काबू में रखने के लिए उसे कुछ समय चाहिए लेकिन वह इसी तरह खेलता है.’’ वॉ ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि उसे सिर्फ इतना समझने की जरूरत है कि टीम में सभी लोग इस तरह नहीं खेल सकते. (अजिंक्य) रहाणे और (चेतेश्वर) पुजारा जैसे लोग काफी धैर्यवान और शांत हैं इसलिए उसे सिर्फ इतना समझने की जरूरत है कि कुछ खिलाड़ी अलग होते हैं.’’

उन्होंने कहा, ‘‘वह अभी काफी अच्छी तरह टीम की अगुआई कर रहा है. उसके अंदर वह करिश्मा और एक्स फेक्टर है और इसलिए वह चाहता है कि बाकी टीम भी उसका अनुसरण करें. वह चाहता है कि टीम हमेशा सकारात्मक होकर खेले और जितनी जल्दी हो सके जीत दर्ज करे.’’

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज के लिए भारतीय महिला टीम का ऐलान, मिताली की कप्तानी में इन खिलाड़ियों को मिली जगह

वॉ ने कहा, ‘‘पिछले कुछ वर्षों में खेल के सभी प्रारूपों में उनका जीत का रिकॉर्ड काफी अच्छा है. विराट की अपनी टीम के लिए बड़ी महत्वाकांक्षाएं हैं. वह सभी प्रारूपों में नंबर एक बनना चाहता है जो आजकल मुश्किल है.’’ कोहली और भारत की नजरें अब इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में जीत दर्ज करने पर टिकी हैं जो टेस्ट क्रिकेट में उसकी अगली दो बड़ी चुनौतियां हैं.

भारत इंग्लैंड में अगस्त और सितंबर में पांच टेस्ट की श्रृंखला खेलेगा जबकि 2018-19 की गर्मियों में टीम को ऑस्ट्रेलिया में चार टेस्ट मैच खेलने हैं. हालांकि वॉ का मानना है कि ऐसा करना आसान नहीं होगा और ऑस्ट्रेलिया में भारत की सफलता के लिए कोहली महत्वपूर्ण होंगे.

उन्होंने कहा, ‘‘ऑस्ट्रेलिया में ऑस्ट्रेलिया प्रबल दावेदार होगा क्योंकि हमारा रिकॉर्ड इतना अच्छा है, जैसे भारत का भारत में. बेशक ऑस्ट्रेलिया में कोहली का प्रदर्शन महत्वपूर्ण होगा. पिछली बार उसने ऑस्ट्रेलिया में शानदार प्रदर्शन किया था.’’