नई दिल्ली : विराट कोहली ने अपनी बैटिंग से खेल के हर फॉर्मेट में अपनी अलग पहचान बनाई है और ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान माइकल क्लार्क का मानना है कि भारतीय कप्तान वनडे इंटरनेशनल क्रिकेट में खेलने वाला ऑल टाइम बेस्ट बैट्समैन हैं.’’ कोहली अभी टेस्ट और वनडे में विश्व के नंबर एक बैट्समैन हैं. उनकी अगुवाई में भारत ने ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट और वनडे सीरीज जीतकर इतिहास रचा. इससे पहले भारतीय टीम ने टी-20 सीरीज बराबर करायी थी. Also Read - IPL 2020: कप्तान कोहली ने बताया- आखिरी समय पर लिया था सिराज को नई गेंद देने का फैसला

Also Read - शिखर धवन ने अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट में पूरे किए 10 साल, फैन्‍स के साथ इस तरह शेयर की स्‍पेशल मूमेंट की खुशी

इस तरह से भारत पहली ऐसी टीम बन गया है जिसने ऑस्ट्रेलिया में सीरीज नहीं गंवायी और इस बीच कोहली ने लगातार अच्छा प्रदर्शन किया. ऑस्ट्रेलिया के पूर्व विश्व कप विजेता कप्तान क्लार्क ने कहा, ‘‘मेरा मानना है कि विराट वनडे में खेलने वाला ऑल टाइम बेस्ट बैट्समैन है. भारत के लिये उन्होंने जो कुछ हासिल किया उसको देखने के बाद मुझे इसमें कोई संदेह नहीं है.’’ Also Read - Happy Birthday Virender Sehwag: टेस्ट क्रिकेट में 2 ट्रिपल सेंचुरी जड़ने वाले इकलौते भारतीय हैं 'नजफगढ़ के नवाब', यहां देखें उनके कुछ चुनिंदा रिकॉर्डस

कोहली ने अब तक 219 वनडे में 10,385 रन बनाये हैं जिसमें 39 शतक शामिल हैं. उनका औसत 59 से भी अधिक है. कोहली के प्रशंसक क्लार्क ने कहा कि भारतीय कप्तान के जुनून का कोई जवाब नहीं है. उन्होंने कहा, ‘‘आपको अपने देश के लिये जीत दर्ज करने के विराट के जुनून का सम्मान करना होगा. हां उसमें आक्रामकता है लेकिन कोई भी उसकी प्रतिबद्धता पर सवाल नहीं उठा सकता. वह वनडे में सर्वश्रेष्ठ है.’’

न्यूजीलैंड के खिलाफ टीम इंडिया 23 जनवरी से खेलेगी वनडे सीरीज, पढ़ें क्या है पूरा शेड्यूल

कोहली जहां लगातार उपलब्धियां हासिल कर रहे हैं वहीं उनके पूर्ववर्ती कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की मौजूदा फॉर्म को लेकर क्रिकेट जगत की राय अलग है. धोनी अब वनडे में पहले की तरह आक्रामक शैली से नहीं खेलते हैं लेकिन क्लार्क का मानना है कि इस 37 वर्षीय पूर्व भारतीय कप्तान को अपना खेल खेलने के लिये अकेला छोड़ देना चाहिए. क्लार्क ने कहा, ‘‘धोनी जानता है कि किसी परिस्थिति में किस तरह से खेलना है. उन्होंने 300 से अधिक वनडे खेले हैं, इसलिए वह जानते हैं कि अपनी भूमिका कैसे निभानी है.’’

लेकिन अगर तीसरे वनडे में लक्ष्य 230 के बजाय 330 होता तो क्या धोनी प्रभावशाली होते? इस सवाल के जवाब में क्लार्क ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि वह फिर अलग तरह से बल्लेबाजी करते. लक्ष्य 230 रन का था और उनकी रणनीति इसी के अनुकूल थी और अगर लक्ष्य बड़ा होता तो उनकी रणनीति भिन्न होती.’’ क्लार्क से पूछा गया कि धोनी को विश्व कप में बल्लेबाजी क्रम में कौन से नंबर पर उतारना चाहिए, उन्होंने कहा, ‘‘चार, पांच या छह किसी भी स्थान पर. वह किसी भी नंबर पर बल्लेबाजी करने में सक्षम हैं और मुझे लगता है कि विराट उनका परिस्थितियों के अनुसार उपयोग करेगा.’’

क्लार्क ने हालांकि कहा कि वर्तमान में निलंबित हार्दिक पांड्या इंग्लैंड में होने वाले विश्व कप में भारतीय अभियान में अहम भूमिका निभाएंगे. पांड्या और केएल राहुल एक टीवी कार्यक्रम के दौरान आपत्तिजनक टिप्पणियां करने के कारण अभी निलंबित हैं. ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान ने कहा, ‘‘हार्दिक जैसा प्रतिभाशाली खिलाड़ी टीम में संतुलन बनाने के लिये बेहद जरूरी है. वह केवल अपनी बल्लेबाजी से मैच जिता सकता है और मुझे विश्वास है कि वह विश्व कप टीम का हिस्सा होगा.’’