कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पुणे में शुरू हुए दूसरे टेस्ट मैच में टॉस के लिए मैदान पर उतरते ही अपने नाम एक और नायाब रिकॉर्ड दर्ज कर लिया. विराट, गुरुवार को 50 टेस्ट मैचों में टीम का नेतृत्व करने वाले दूसरे भारतीय कप्तान बन गए हैं. इस रेस में कोहली ने टीम इंडिया के सफल कप्तानों में से एक कप्तान सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) को पीछे छोड़ दिया है.

पूर्व कप्तान एमएस धोनी ने खेल के सबसे लंबे प्रारूप में सबसे अधिक बार भारतीय टीम का नेतृत्व कर इस लिस्ट में टॉप पर बने हुए हैं. उन्होंने टेस्ट प्रारूप में 60 मैचों के लिए भारत की कप्तानी की है. इस साल की शुरुआत में, कोहली, धोनी को पीछे छोड़ते हुए सबसे सफल भारतीय टेस्ट कप्तान भी बन गए थे.  30 वर्षीय कोहली ने टेस्ट कप्तान के रूप में 49 मैचों में 29 जीत दर्ज की हैं. वहीं एमएस धोनी के हिस्से 60 मैचों में 27 जीत आई है.

IND v SA, 2nd Test : भारत ने टॉस जीतकर चुनी बल्लेबाजी, हनुमा विहारी की जगह उमेश यादव टीम में

इससे पहले विंडीज के खिलाफ 318 रनों की जीत ने टीम इंडिया का मनोबल तो बढ़ाया ही था लेकिन साथ ही साथ इस जीत ने कोहली को विदेश में खेले गए टेस्ट मैचों का सबसे सफल कप्तान बना दिया. यह जीत कोहली की 12 वीं विदेशी टेस्ट जीत थी जो उन्होंने 26वें मैच में हासिल किया. वहीं, गांगुली ने 28 विदेशी टेस्ट मैचों में 11 जीत दर्ज की थी.

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में भारत ने 203 रनों से मैच जीता था. इस जीत में बल्लेबाज से लेकर गेंदबाजों ने अपना भरपूर योगदान दिया. रोहित शर्मा ने पहली पारी में 176 रन बनाएं और फिर दूसरी पारी में 126 रन बना कर उन्होंने अपनी टेस्ट मैचों में अपनी वापसी का ऐलान कर दिया है. रोहित एक टेस्ट मैच की दोनों पारियों में शतक बनाने वाले केवल दूसरे भारतीय सलामी बल्लेबाज बन गए हैं. इस जीत के साथ, भारत ने विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के शीर्ष पर अपनी स्थिति मजबूत कर ली है. टीम के अब तीन मैचों में 160 अंक हैं. गुरुवार से शुरू हुए दूसरे टेस्ट मैच में भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया है.

विराट कोहली को पाकिस्तान में खेलने का मिला न्यौता !