वर्तमान समय में भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली को सबसे फिट खिलाड़ियों में शुमार किया जाता है. कोहली का कहना है कि जब तक वह क्रिकेट खेलेंगे तब तक पूरे जुनून के साथ फिटनेस के लिए ऐसे ही मेहनत करते रहेंगे. उन्होंने इसका श्रेय टीम इंडिया के पूर्व स्ट्रेंथ और अनुकूलन कोच शंकर बासु को दिया है. Also Read - पार्थिव पटेल बोले-टीम इंडिया को नहीं मिल सकता स्थाई विकेटकीपर, बताई वजह

कोहली ने देश के शीर्ष फुटबॉलर सुनील छेत्री के साथ इंस्टाग्राम पर लाइव चैट पर ये बात कही. फिटनेस को लेकर खुद में आई परिवर्तन के बारे में बात करते हुए कोहली ने कहा कि वह इसका श्रेय अपने आप को नहीं देंगे. Also Read - इयान बिशप ने चुनी दशक की सर्वश्रेष्ठ ODI टीम; महेंद्र सिंह धोनी बने कप्तान, बुमराह को जगह नहीं

‘इसका पूरा श्रेय शंकर बासु को जाता है’ Also Read - भारतीय क्रिकेट के पोस्टर ब्वॉय रहे इस पूर्व ऑलराउंडर ने युवराज सिंह से पहले जड़ दिए थे एक ओवर में 6 छक्के

कोहली ने कहा, ‘यह (फिटनेस और प्रशिक्षण) मेरे लिए सब कुछ है, मैं इसका श्रेय खुद नहीं लूंगा. मेरे करियर को अगले स्तर तक ले जाने का श्रेय शंकर बासु को जाता है.’

कोहली ने फुटबॉल टीम के राष्ट्रीय कप्तान से कहा, ‘वह (बासु) आरसीबी (रॉयल चैलेंजर बैंगलोर) में एक प्रशिक्षक थे, उन्होंने मुझे वजन उठाने के लिए कहा. मैं थोड़ा हिचकिचा रहा था क्योंकि मुझे पीठ दर्द की शिकायत थी. यह मेरे लिए बिल्कुल नया था. लेकिन मुझे तीन हफ्तों के भीतर जो परिणाम मिला वह चकित करने वाला था.’

‘मैं वही कर रहा हूं जो मेरे शरीर के लिए जरूरी है’

बकौल कोहली, ‘इसके बाद उन्होंने मेरे आहार पर काम किया, मैंने ध्यान देना शुरू किया कि मेरे शरीर के साथ क्या हो रहा है. जब मुझे एहसास हुआ कि मेरी शारीरिक बनावट के कारण मुझे अपने शरीर पर दो या तीन बार काम करना पड़ेगा. मैं वही कर रहा हूं जो मेरे करियर के लिए जरूरी है.’

प्रशिक्षण और अभ्यास के समय के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘‘ जब तक मैं खेल खेल रहा हूं तब तक पूरे जुनून के साथ इसे जारी रखूंगा. अगर आप देश के लिए खेल रहे हैं, तो आपको कड़ी मेहनत करनी होगी, अगर आप ऐसा नहीं कर सकते, तो आपको खेल से दूर जाना चाहिए.’