आईसीसी टी20 विश्व कप के बाद पहली बार मैदान पर उतरे विराट कोहली (Virat Kohli) ने न्यूजीलैंड के खिलाफ मुंबई टेस्ट के पहले दिन शर्मना रिकॉर्ड बनाया। वानखेड़े स्टेडियम में कोहली कीवी स्पिनर एजाज पटेल (Ajaj Patel) की गेंद पर बिना खाता खोला एलबीडब्ल्यू आउट होकर एक साल में सबसे ज्यादा बार शून्य पर आउट होने वाले भारतीय कप्तान बने।Also Read - India vs South Africa 1st ODI: टेम्बा बावुमा, रासी वान डेर डूसन के धमाकेदार शतकों की बदौलत दक्षिण अफ्रीका का स्कोर 296/4

कोहली ने इस रिकॉर्ड की सूची में पूर्व दिग्गजों बिशन सिंह बेदी (1976), कपिल देप (1983) और महेंद्र सिंह धोनी (2011) की बराबरी की। इन सभी महान भारतीय कप्तानों के नाम एक साल में चार बार शून्य पर होने का रिकॉर्ड है। Also Read - India vs South Africa 1st ODI: दक्षिण अफ्रीका ने पहले बल्लेबाजी का फैसला किया; वेंकटेश अय्यर को डेब्यू का मौका

इसके साथ ही कोहली टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा शून्य पर आउट होने वाले भारतीय कप्तान भी बन गए हैं। कोहली अपने टेस्ट करियर में अब तक 10 बार शून्य पर आउट हुए हैं। उन्होंने अपने सीनियर खिलाड़ी धोनी का रिकॉर्ड तोड़ा है जो कि टेस्ट क्रिकेट में 8 बार डक आउट हुए हैं। Also Read - IND vs SA, 1st ODI Match Report and Highlights: साउथ अफ्रीका ने भारत को 31 रन से हराया, फ्लॉप हुए बल्लेबाज

कल हुई बारिश के बाद गीली आउटफील्ड की वजह से मुंबई टेस्ट के पहले दिन टॉस में देरी होने के बाद पहला सेशन रद्द हो गया। हालांकि 12 बजे जब खेल शुरू हो पाया तो टॉस जीतकर भारतीय टीम पहले बल्लेबाजी करने उतरी।

मयंक अग्रवाल-शुबमन गिल की अर्धशतक पारी की वजह से भारतीय पारी की अच्छी शुरुआत हुई लेकिन स्पिन गेंदबाज एजाज पटेल के अटैक में आते ही खेल पूरी तरह पलट गया।

एजाज ने 28वें ओवर में गिल को आउट करने के बाद 30वें ओवर में चेतेश्वर पुजारा और कोहली का विकेट लेकर भारतीय टीम की बैकफुट पर भेजा।

30वें ओवर की आखिरी गेंद पर कोहली पटेल की फुल लेंथ गेंद पर बीट हुई और कीवी गेंदबाज की जोरदार अपील पर फील्ड अंपायर नितिन मेनन ने आउट का फैसला दिया।

भारतीय कप्तान ने डीआरएस का इस्तेमाल किया लेकिन तीसरे अंपायर अनिल चौधरी ने कहा कि उनके पास फील्ड अंपायर के फैसले को पलटने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं हैं।

हालांकि रीप्ले में दिखा कि गेंद कोहली के बल्ले के अंदरूनी किनारे पर लग रही थी लेकिन फैसला किया जा चूका था और कोहली को पवेलियन लौटना पड़ा। इसी के साथ कोहली ने एक साल में चार बार शून्य पर आउट होने वाले भारतीय कप्तान होने का रिकॉर्ड बनाया।