नई दिल्ली : टीम इंडिया का ऑस्ट्रेलिया में प्रभावी प्रदर्शन नहीं रहा है. टीम ने यहां अब तक 44 टेस्ट मैच खेले हैं. इस दौरान 28 मैचों में हार का सामना किया. जब कि सिर्फ 5 मैचों में जीत हासिल की. उसे अब तक एक भी सीरीज जीत हासिल नहीं हुई है. लेकिन इस बार टीम इंडिया से काफी उम्मीदें होंगी. भारत विराट कोहली की कप्तानी में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज का पहला मैच 6 दिसंबर से एडिलेड में खेलेगा. एडिलेड कोहली के लिए लकी रहा है. भारत ने यहां एक टेस्ट मैच भी जीता है, जो कि ऐतिहासिक है. अब देखना यह होगा कि क्या कोहली वैसी जादुई जीत दिला पायेंगे या नहीं…

दरअसल भारत ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दिसंबर 2003 में एक टेस्ट मैच जीत था. यह मुकाबला एडिलेड में खेला गया. इसमें राहुल द्रविड़ और वीवीएस लक्ष्मण ने ऐतिहासिक प्रदर्शन किया. अब कोहली के सामने इतिहास दोहराने की चुनौती है. कोहली के लिए यह मैदान सहायक साबित रहा है. कोहली ने 2014 में यहां खेले गए टेस्ट मैच में दो शतक जड़े थे. हालांकि इसके बावजूद भारत मैच नहीं जीत सका. कोहली ने भारत की पहली पारी में 115 रन और दूसरी पारी में 141 रन का अहम योगदान दिया था.

साल 2003-04 में भारतीय टीम सौरव गांगुली की कप्तानी में ऑस्ट्रेलिया दौरे पर गई. यहां उसे 4 मैचों की टेस्ट सीरीज खेलनी थी. सीरीज का दूसरा मुकाबला एडिलेड में था. 12 दिसंबर से शुरू हुआ यह मैच भारतीय टीम की शानदार जीतों में से एक है. टॉस जीतकर पहले बैटिंग करने उतरी ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में ऑल आउट होने तक 556 रन का विशाल स्कोर बनाया. इस पारी में भारतीय गेंदबाज रिकी पोटिंग के बैट को खामोश करने में नाकाम रहे. पोटिंग ने शानदार बैटिंग करते हुए दोहरा शतका जड़ा. उन्होंने 31 चौकों की मदद से 242 रन बनाए. जब कि भारत की ओर से अनिल कुंबले ने 5 विकेट झटके.

AUSvsIND: टीम इंडिया के ये 3 बॉलर्स करेंगे ऑस्ट्रेलिया के लिए साबित होंगे खतरा

अब बारी भारत की थी. पहली पारी के लिए आकाश चोपड़ा और वीरेन्द्र सहवाग ओपनिंग करने आए. आकाश महज 27 रन बनाकर आउट हुए. जब कि सहवाग ने 47 रन का योगदान दिया. इन खिलाड़ियों की के आउट होने के बाद राहुल द्रविड़ मैदान में उतरे. द्रविड़ ने ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों की हालत खराब कर दी. कंगारू टीम के गेंदबाजों ने उन्हें आउट करने के लिए कई तरीके आजमाए. लेकिन सफल नहीं हुए. हालांकि अंत में द्रविड़ दोहरा शतक लगाने के बाद पवेलियन लौटे. उन्होंने 23 चौकों और 1 छक्के की मदद से दोहरा शतक जड़ा. द्रविड़ ने 446 गेंदों का सामना करते हुए 233 रन बनाए. यहां दूसरे छोर पर उनका साथ देने के लिए वीवीएस लक्ष्मण मौजूद थे. लक्ष्मण ने अपनी स्टाइल में बैटिंग की और शतक जड़ा.लक्ष्मण ने 282 गेंदों का सामना करते हुए 18 चौकों की मदद से 148 रन बनाए.

टीम इंडिया के ये 5 खिलाड़ी टेस्ट में करेंगे बेस्ट, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बनेंगे ‘गेम चेंजर’

ऑस्ट्रेलिया की दूसरी पारी में भारतीय गेंदबाज हावी रहे. उन्होंने कंगारू टीम को 196 रन पर समेट दिया. इस पारी में अजीत अगरकर की गेंदबाजी ऑस्ट्रेलिया को भारी पड़ी. अगरकर ने 16.2 ओवर में 41 रन देकर 6 विकेट झटके. इसके जवाब में भारतीय टीम ने 6 विकेट खोकर लक्ष्य हासिल कर लिया. भारत के लिए द्रविड़ ने 170 गेंदों का सामना करते हुए नाबाद 72 रन बनाए. जबकि सहवाग अर्धशतक से चूक गए. उन्होंने 47 रन का अहम योगदान दिया. इस तरह भारत ने 4 विकेट से ऐतिहासिक जीत दर्ज की. अब कोहली के सामने भारत को ऐडिलेड में दूसरी जीत दिलाने की चुनौती है.