नई दिल्ली. विराट कोहली की इंजरी कन्फर्म हो चुकी है. उन्हें गर्दन में चोट लगी है. ये इंजरी उन्हें सनराइजर्स के खिलाफ IPL मुकाबले में फील्डिंग के दौरान लगी. विराट की इस चोट के कन्फर्म होने के बाद उन्हें काउंटी क्रिकेट में भी उनके नहीं खेलने पर मुहर लग चुकी है, जिसकी जानकारी विराट की काउंटी टीम सरे ने भी अपने ट्विटर अकाउंट पर दी है. Also Read - पाकिस्तान ने माना कोहली का लोहा, पूर्व कप्तान राशिद लतीफ बोले- विराट से पंगा मत लेना वर्ना...

सरे के डायरेक्टर एलेक्स स्टीवर्ट ने कहा कि, ” हमें काफी दुख हो रहा है कि विराट सरे के लिए जून में नहीं खेल पाएंगे. हम इंजरी को समझते हैं और BCCI की मेडिकल टीम के फैसले का सम्मान करते हुए विराट को रिलीज करते हैं.”

विराट की इंजरी पर भज्जी

BCCI की मेडिकल रिपोर्ट के मुताबिक विराट को गर्दन की चोट से उबरने में वक्त लगेगा. हो सकता है कि इससे उनका इंग्लैंड दौरा भी चपेट में आ जाए. लेकिन, भारतीय क्रिकेटर हरभजन सिंह ने कहा है कि विराट को अपनी इंजरी से पीछा छुड़ाने में कोई जल्दी नहीं करनी चाहिए. हरभजन के मुताबिक, ” अगर विराट को इंजरी से उबरने के लिए इंग्लैंड के खिलाफ T20 और वनडे सीरीज छोड़नी पड़े तो ठीक है क्योंकि भारत को उनकी असली जरुरत टेस्ट सीरीज में है.”

भारत का इंग्लैंड दौरा

बता दें कि भारत का इंग्लैंड दौरा 3 जुलाई से शुरू हो रहा है. 2 महीने के इस दौरे में भारत को 3 T20, 3 वनडे और 5 टेस्ट मैच खेलने हैं. T20 सीरीज के तीनों मुकाबले 3 से 8 जुलाई के बीच खेले जाएंगे जबकि वनडे सीरीज 12 जुलाई से शुरू होकर 17 जुलाई तक चलेगा. इसके बाद 1 अगस्त से 7 सितंबर के बीच 5 टेस्ट मैच खेले जाएंगे.

टेस्ट सीरीज में कमबैक जरूरी क्यों?

टीम इंडिया ने इंग्लैंड की सरजमीं पर वनडे सीरीज तो सील की है लेकिन टेस्ट में इंग्लैंड की धरती पर जीत का बैंड बजाना अभी भी उसका सपना है. कप्तान विराट कोहली की भारतीय टीम फिलहाल टेस्ट में नंबर वन है और इस लिहाज से इस बार उससे इतिहास को बदलने की उम्मीद की जा रही है. वैसे भी T20 और वनडे सीरीज अगर विराट नहीं खेलते हैं तो टीम इंडिया के साथ धोनी, रहित और रैना जैसे सीनियर खिलाड़ी टीम के साथ होंगे. लेकिन, इंग्लैंड की धरती पर टेस्ट में बेस्ट का झंडा बुलंद करना है तो विराट की वापसी जरूरी है.