पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व ऑलराउंडर अब्दुल रज्जाक ने टीम इंडिया के युवा तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह को ‘बेबी’ बॉलर कहने के बाद अब कप्तान विराट कोहली पर हमला बोला है रज्जाक का कहना है कि कोहली के प्रदर्शन में निरंतरता है लेकिन वह दिग्गज सचिन तेंदुलकर के स्तर के नहीं हैं.

‘वर्ल्ड में क्रिकेट का स्तर घटा है’

रज्जाक का मानना है कि कुल मिलाकर दुनिया भर में क्रिकेट का स्तर घटा है इस ऑलराउंडर ने ‘क्रिकेट पाकिस्तान’ से कहा, ‘हमें विश्व स्तर के वैसे खिलाड़ी अब नहीं दिख रहे जिनके खिलाफ हम 1992 से 2007 के बीच खेले टी-20 क्रिकेट ने खेल को बदल दिया है गेंदबाजी, बल्लेबाजी और क्षेत्ररक्षण में कोई गहराई नहीं है.’

इस खिलाड़ी के बिना पाकिस्तानी टेस्ट टीम नहीं चुनते पूर्व कोच मिकी आर्थर

उन्होंने कहा, ‘विराट कोहली को देखो, जब वह रन बनाते हैं तो बनाते चले जाते हैं हां, वह अच्छा खिलाड़ी हैं और लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं लेकिन मैं उन्हें सचिन तेंदुलकर के स्तर पर नहीं रखता.’

‘ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए पाक गेंदबाजों के चयन पर भी सवाल उठाए’

पाकिस्तान की ओर से 46 टेस्ट, 265 वनडे और 32 टी-20 इंटरनेशनल मैच खेलने वाले रज्जाक ने ऑस्ट्रेलिया में हाल में संपन्न टेस्ट सीरीज के लिए पाकिस्तानी गेंदबाजों को चुनने के तरीके पर भी सवाल उठाए.

उन्होंने कहा, ‘मुझे यह जानकारी है कि जो गेंदबाज ऑस्ट्रेलिया गए उन्हें इसलिए चुना गया क्योंकि उन्होंने नेट्स पर सीनियर बल्लेबाजों को परेशान किया क्या यह चयन के लिए पात्रता है? नेट पर प्रदर्शन के आधार पर खिलाड़ियों का चयन अस्वीकार्य है आपको पता नहीं होता कि असल मैच स्थिति में वह कैसा प्रदर्शन करेगा.’

गुजरात के नए मोटेरा स्टेडियम में ASIA XI vs WORLD XI मैच करा सकता है BCCI

पाकिस्तान के युवा तेज गेंदबाज ऑस्ट्रेलिया में नाकाम रहे जिससे टीम को दोनों टेस्ट में पारी के अंतर से हार का सामना करना पड़ा. रज्जाक ने कहा, ‘नसीम शाह, हसनैन प्रतिभावान हैं लेकिन मेरा मानना है कि उन्हें टेस्ट मैचों में खिलाना काफी जल्दबाजी है उन्हें सिखाने और निखारने की जरूरत है.’

बुमराह के लिए कही ये बात

बकौल रज्जाक, ‘अपने समय में विश्व स्तर के गेंदबाजों का सामना करने के बाद मुझे जसप्रीत बुमराह जैसे गेंदबाज का सामना करने में कोई परेशानी नहीं होता. दबाव उसपर होता. मैंने ग्लेन मैक्ग्रा और वसीम अकरम जैसे महान गेंदबाजों के खिलाफ खेला है, इसलिए बुमराह तो मेरे सामने बच्चा है और मैं आसानी से उसपर हावी होता और अटैक करता.’

ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर पाकिस्तान को दो मैचों की टेस्ट सीरीज में मुंह की खानी पड़ी थी मेजबान टीम ने पाक को दोनों टेस्ट में पारी के अंतर से हराकर सीरीज में क्लीनस्वीप किया था.