नई दिल्ली.  भारतीय कप्तान विराट कोहली ने  उन विचारों को खारिज किया कि विज्ञापनों पर ज्यादा समय बिताना एक क्रिकेटर के लिये ध्यान भंग करने वाला हो सकता है. कोहली कई ब्रांड के विज्ञापन करते हैं और कुछ तो उनके खुद के उपक्रम हैं.

चेन्नई में वेस्टइंडीज को चित्त कर T20 सीरीज में क्लीन स्वीप करना चाहेगा भारत

कोहली ने कहा, ‘‘जब मैं रोग्न (कपड़ों का उनका ब्रांड) से जुड़ा था तो मैं 25-26 साल का था. इसके बाद भी लोगों को लगता कि मैं 25 साल की उम्र में व्यवसाय से जुड़ रहा हूं और मैं इसके लिये बहुत कम उम्र का हूं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘पेशेवर खिलाड़ी के तौर पर व्यवसाय के लिये कोई उम्र की सीमा नहीं है क्योंकि आप जब भी व्यवसाय शुरू करते हो, आपको इसे बढ़ाना होता है. यह एक वाक्यांश है कि आपको एक विशेष उम्र के बाद ही व्यवसाय करना चाहिए. मैं इसमें विश्वास नहीं करता. ’’

ICC Women’s World T20: भारत के सामने आज चिर-प्रतिद्वन्दी पाकिस्तान की चुनौती

कोहली ने कहा कि खिलाड़ी के लिये क्रिकेट और व्यावसयायिक हितों में संतुलन बनाना अहम होता है. उन्होंने कहा, ‘‘मैं नहीं मानता कि आप खेलते हुए प्रायोजन नहीं कर सकते. मैं इन सबमें विश्वास नहीं रखता. अगर आपके पास सीमित समय है तो आपको पता होना चाहिए कि आप इस सीमित समय में अपने उत्पाद को कैसे आगे बढ़ा सकते हो. ’’