नई दिल्ली: भारतीय कप्तान विराट कोहली ने शनिवार को कहा कि पुलवामा आंतकी हमले के बाद आगामी विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ खेलने के संबंध में उनकी टीम सरकार के फैसले का सम्मान करेगी. इस हमले में 40 सीआरपीएफ जवान शहीद हो गये थे. हालांकि 16 जून को होने वाले इस मुकाबले का बहिष्कार करने की मांग उठ रही है, लेकिन भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने इस पर फैसला नहीं लिया और यह निर्णय सरकार पर छोड़ दिया. कप्तान कोहली ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ रविवार को होने वाले भारत के शुरुआती टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच की पूर्व संध्या पर कहा, ‘हमारा फैसला स्पष्ट है. हम उस पर कायम रहेंगे जो देश करना चाहता है और जो फैसला बीसीसीआई करता है. हमारी राय यही है.

पुलवामा हमला: विश्वकप में भारत को पाकिस्तान से मैच खेलना चाहिए या नहीं, कपिल देव की ये है राय

उन्होंने कहा, ‘सरकार और बोर्ड जो भी फैसला करते हैं, हम उसी का पालन करेंगे और उसका सम्मान करेंगे. इस मुद्दे पर हमारा पक्ष यही है. कप्तान ने पूरी भारतीय टीम की ओर से शहीद जवानों के परिवारों को संवेदना व्यक्त की. उन्होंने कहा, ‘जिन जवानों ने अपनी जान गंवायी, उनके परिवारों के प्रति हमारी गहरी संवेदनाएं.

क्रिकेट में जंग की बात, टेनिस में दो-दो हाथ, भारतीय टेनिस एसो. को पाक में खेलने से ऐतराज नहीं

भारतीय टीम इस घटना से दुखी है. मुख्य कोच रवि शास्त्री ने भी टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा कि टीम सरकार के फैसले को स्वीकार करेगी. शास्त्री ने ‘मिरर नाऊ’ से कहा, ‘यह पूरी तरह से बीसीसीआई और सरकार पर है. वे जानते हैं कि क्या हो रहा है और वे इस पर फैसला करेंगे. वो जो भी फैसला करते हैं, हम उसका पालन करेंगे. उन्होंने कहा, ‘अगर सरकार कहती है कि यह इतना नाजुक है कि आपको विश्व कप में खेलने की जरूरत नहीं है तो मैं सरकार के फैसले का पालन करूंगा.

‘पाकिस्तान बॉयकॉट’ के पक्ष में नहीं सचिन तेंदुलकर, कहा- बिना खेले क्यों दें प्वाइंट

इससे पहले पूर्व भारतीय क्रिकेटर कपिल देव कहा था कि सरकार को तय करने देना चाहिए कि पाकिस्तान के साथ खेलना है कि नहीं. कपिल देव ने कहा कि भारत सरकार जो भी फैसला करेगी वह देश के हित में होगा. शुक्रवार को पुणे में एक कार्यक्रम के दौरान कपिल देव ने कहा, खेलना या न खेलना एक ऐसी चीज है, जिसका फैसला हम जैसे लोगों को नहीं करना है. इसे सरकार को तय करना है. बेहतर होगा कि हम एक राय न दें और इस पर सरकार लेने दें. हमे वही करना चाहिए जो सरकार चाहती है.