नई दिल्ली. न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे सीरीज टीम इंडिया के लिए महज एक सीरीज ही नहीं बल्कि वर्ल्ड कप से पहले अपनी ताकत, अपनी बेंच स्ट्रेंथ को परखने का एक सुनहरा मौका भी है. इस वनडे सीरीज के लिए पंजाब के बल्लेबाज और पिछले साल भारत की अंडर 19 वर्ल्ड कप जीत के हीरो शुभमन गिल को भी परखा जाना है. गिल में टैलेंट की कमी नहीं है. उनकी बल्लेबाजी की हर कोई तारीफ कर चुका है. लेकिन, बड़ा सवाल ये है कि पहली बार सीनियर टीम के कदम रखने वाले इस उभरते सितारे को प्लेइंग इलेवन में मौका कैसे दिया जाए. गिल को मौका न मिलने में अड़चन खुद भारतीय कप्तान विराट कोहली ही है. दरअसल, दोनों का बैटिंग ऑर्डर एक ही है. हालांकि, अब जबकि कप्तान कोहली को न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज के आखिरी 2 वनडे से आराम दिया गया है, तो इस बात की पूरी गुंजाइश है कि उनकी जगह पर शुभमन गिल को नंबर 3 पर खेलने का चांस मिल सकता है. बैटिंग ऑर्डर के अलावा विराट और गिल की बल्लेबाजी का अंदाज भी एक जैसा है. दोनों राइट हैंडर्स हैं और दोनों को दबाव औक लक्ष्य का पीछा करना पसंद है.

विराट को आराम, गिल को चांस!

बता दें कि नेपियर में पहला वनडे जीतने के बाद BCCI ने विराट कोहली को को सीरीज के आखिरी 2 वनडे और T20 सीरीज से आराम देने का मन बनाया है. सिर्फ एक जिम्बाब्वे को छोड़ दें तो एशिया के बाहर किसी देश में खेली सीरीज से विराट कोहली को पहली बार आराम दिया गया है. बहरहाल, टीम के कप्तान को मिला ये आराम शुभमन गिल के लिए अब अच्छा मौका बन सकता है.

बल्लेबाजी में ‘विराट’ विकल्प हैं गिल

शुभमन गिल नंबर 3 के बल्लेबाज हैं. इस ऑर्डर पर खेलते हुए वो पिछले साल अपने दम पर भारत को अंडर 19 वर्ल्ड कप का चैंपियन बना चुके हैं. वो वर्ल्ड कप न्यूजीलैंड की धरती पर ही खेला गया था, जिसमें उन्होंने 5 पारियों में 124 की विशाल औसत के साथ 372 रन बनाए थे और मैन ऑफ द टूर्नामेंट बने थे. इस प्रदर्शन के दौरान गिल के बल्ले से 1 शतक और 3 अर्धशतक फूटे थे.

ऐसा मौका फिर कहां मिलेगा?

अब चूंकि वर्ल्ड कप में ज्यादा वक्त नहीं रहा और न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज को उसकी तैयारियों के मद्देनजर देखा जा रहा है तो भारतीय टीम मैनेजमेंट ये चाहेगा कि शुभमन गिल को भी आजमाया जाए. जाहिर है ऐसे में कोहली की गैर-मौजूदगी में गिल को आजमाने का बेहतर मौका नहीं हो सकता. बेशक, विराट के आने के बाद गिल नंबर 3 पर खेलते न दिखें लेकिन इस मिले मौके से ये तो साफ हो ही जाएगा कि वो बल्लेबाजी में उनके एक बेहतर विकल्प के तौर पर वर्ल्ड कप जाने वाली टीम इंडिया की इंग्लैंड की फ्लाइट पकड़ सकते हैं या नहीं.