नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने रविवार को कहा कि चार साल पहले इंग्लैंड दौरे पर खराब प्रदर्शन के कारण विराट कोहली आगामी दौरे की तैयारियों को लेकर हड़बड़ी में थे. गांगुली इस बात को लेकर भी खुश है कि टीम के मौजूदा कप्तान दौरे की तैयारियों के लिए काउंटी क्रिकेट में खेलने नहीं गए. गांगुली ने कहा, ‘‘कोहली एक शानदार खिलाड़ी है. वह इस बार अच्छा करेगा. मैं खुश हूं कि इंग्लैंड श्रृंखला से पहले उसने काउंटी क्रिकेट नहीं खेला. मुझे लगता है कि वह काउंटी क्रिकेट खेलने को लेकर काफी आतुर था. पिछले दौरे पर अच्छा प्रदर्शन नहीं होने इस बार अच्छा करने को लेकर वह बेताब था. वह इतना अच्छा खिलाड़ी हैं कि इस बार शानदार प्रदर्शन करेगा.’’ Also Read - हाफिज सईद कहे जाने पर भड़के इरफान पठान ; कहा- कितनी गिर गई है हमारी मानसिकता

Also Read - संजू सैमसन ने कहा: विराट कोहली से अनुशासन सीखें युवा क्रिकेटर

कोहली काउंटी में सरे के लिए खेलने वाले थे लेकिन गर्दन में चोट के कारण वह वहां नहीं जा सके. इंग्लैंड रवाना होने से पहले खुद कोहली ने भी कहा कि काउंटी क्रिकेट में न खेलना उनके लिए अच्छा रहा क्योंकि इस दौरान उन्हें आराम करने का पूरा समय मिला. दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों में शानदार प्रदर्शन करने वाले कोहली इंग्लैंड के पिछले दौरे पर पूरी तरह फ्लॉप रहे थे. उन्होंने दस टेस्ट पारियों में 13.40 के औसत से महज 134 रन बनाये थे. Also Read - 'यदि भारत खेलने के लिए तैयार हो जाए तो हम 23 की जगह 13 मैचों के आयोजन पर विचार कर सकते हैं'

VIDEO: टीम इंडिया ने जीता नरेन्द्र मोदी का दिल, प्रधानमंत्री ने ‘मन की बात’ में की तारीफ

गांगुली को लगता है कि इस बार पांच टेस्ट की श्रृंखला में कप्तान और भारतीय टीम दोनों अच्छा करेंगे. गांगुली ने कहा, ‘‘ भारत के पास अच्छा मौका है लेकिन इंग्लैंड की टीम भी फॉर्म में है. यह करीबी मुकाबला होगा.’’ हाल ही में एकदिवसीय मैच में इंग्लैंड के 481 रन के बारे में पूछे जाने पर गांगुली ने खेल के स्वास्थ्य पर चिंता जताते हुए सचिन तेंदुलकर के बयान का समर्थन किया.

आयरलैंड में रनों की बारिश करेंगे टीम इंडिया के ये दो ‘अनमोल रत्न’, देखें VIDEO

रनों के अंबार पर तेंदुलकर ने कहा था कि एकदिवसीय क्रिकेट में दो नयी गेंद का इस्तेमाल ‘‘इस खेल में आपदा’’ की तरह है. गांगुली ने कहा, ‘‘ हां, खेल में दो नयी गेंद के इस्तेमाल के कारण रिवर्स स्विंग का प्रभाव लगभग खत्म हो गया है. रिवर्स स्विंग इस लिए भी कम हो रही है क्योंकि आजकल मैदान काफी हरे-भरे हैं.’’