नई दिल्ली। भारतीय कप्तान विराट कोहली की इंग्लैंड दौरे की तैयारियों को झटका लगा है. वह गर्दन में चोट के कारण इंग्लिश काउंटी सर्किट में नहीं खेल पाएंगे. बीसीसीआई ने आज उनके काउंटी क्रिकेट से बाहर होने की घोषणा की. बीसीसीआई ने कहा कि चोट से उबरने के लिए कोहली को तीन हफ्ते के रिहैबिलिटेशन की जरूरी होगी. कोहली का फिटनेस टेस्ट 15 जून को होगा जिसके बाद ही इंग्लैंड दौरे के सीमित ओवरों के शुरुआती चरण में उनकी उपलब्धता की पुष्टि हो पाएगी. इस दौरे की शुरुआत जून के अंतिम हफ्ते में आयरलैंड के खिलाफ दो टी 20 अंतरराष्ट्रीय मैचों के साथ होगी. Also Read - ‘ट्रेसर बुलेट’ की तरह घूम रही COVID-19 महामारी से बचने के लिए घरों में रहें: रवि शास्त्री

टी 20 सीरीज से इंग्लैंड दौरे की शुरुआत Also Read - COVID-19: कोहली एंड कंपनी का ऑस्ट्रेलिया दौरा अधर में, ये है वजह

भारत इग्लैंड के खिलाफ सीरीज की शुरुआत टी 20 अंतरराष्ट्रीय मैचों के साथ करेगा जिसकी शुरुआत जुलाई के शुरुआती हफ्ते में होगी. बीसीसीआई के कार्यवाहक सचिव अमिताभ चौधरी ने प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर और सनराइजर्स हैदराबाद के बीच बेंगलोर के एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में 17 मई 2018 को हुए वीवो आईपीएल के 51वें मैच के दौरान भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली की गर्दन में चोट लगी थी. Also Read - ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज ने वीवीएस लक्ष्मण की इस पारी को सर्वकालिक पसंदीदा पारियों में से एक बताया

IPL में खराब प्रदर्शन पर विराट कोहली का ’90 सेकेंड’ का माफीनामा

उन्होंने कहा कि कोहली को जून के महीने में सरे की ओर से खेलना था लेकिन अब वह इससे बाहर हो गए हैं. बीसीसीआई की मेडिकल टीम के आकलन, स्कैन और विशेषज्ञ से मुलाकात के बाद यह फैसला किया गया है. भारतीय कप्तान अब बीसीसीआई की मेडिकल टीम के मार्गदर्शन में रिहैबिलिटेशन की प्रक्रिया से गुजरेंगे. वह ट्रेनिंग शुरू करेंगे और फिर इसके बाद 15 जून को बेंगलोर की राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी में उनका फिटनेस टेस्ट होगा.

चौधरी ने कहा कि बीसीसीआई की मेडिकल टीम को भरोसा है कि आयरलैंड और इंग्लैंड के भारत के आगामी दौरों से पूर्व कोहली पूर्ण फिटनेस हासिल कर लेंगे. काउंटी क्रिकेट में खेलने के लिए कोहली ने अफगानिस्तान के खिलाफ बेंगलोर में 14 जून से शुरू हो रहे एकमात्र टेस्ट में नहीं खेलने का फैसला किया था.

स्लिप डिस्क की आई थी खबर

कोहली बुधवार को जांच के लिए मुंबई के एक अस्पताल गए थे जिसके बाद खबरें आई थीं कि उन्हें स्लिप डिस्क हो गया है और वह भारतीय टीम के इंग्लैंड दौरे से पहले सरे के लिये काउंटी क्रिकेट नहीं खेल सकेंगे. बीसीसीआई के एक शीर्ष अधिकारी ने हालांकि साफ किया कि उनकी गर्दन में मोच है और उन्हें स्लिप डिस्क नहीं हुआ है.

कोहली ने खेले ज्यादा मैच

हालांकि इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि पिछले एक साल से कोहली पर काम का बोझ काफी अधिक है. कोहली ने इस दौरान नौ टेस्ट खेले और राष्ट्रीय टीम के 32 में से 29 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में हिस्सा लिया. उन्होंने भारत के 18 में से नौ टी 20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में भी शिरकत की. उन्होंने इस दौरान कुल 47 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले.

विराट कोहली ने राठौड़ की फिटनेस चुनौती स्वीकार की, पीएम मोदी और धोनी को दिया चैलेंज

इस दौरान कोहली से अधिक अंतरराष्ट्रीय मैच केवल रोहित शर्मा और हार्दिक पंड्या (दोनों 48 मैच) ने खेले. इसके अलावा इस सत्र में आईपीएल के 14 मैच भी उन्होंने खेले जिससे उनके कुल मैचों की संख्या 61 हो गई. हालांकि यहां एक सवाल यह उठता है कि कोहली ने आईपीएल के दौरान कुछ मैचों से आराम क्यों नहीं लिया. आईपीएल में बेंगलोर का प्रदर्शन बेहद खराब रहा और टीम प्लेऑफ तक नहीं पहुंच सकी.

(भाषा इनपुट)