तिरुवनंतपुरम : भारतीय कप्तान विराट कोहली ने गुरुवार को दोहराया कि महेंद्र सिंह धोनी वनडे टीम का अहम हिस्सा बने रहेंगे. कोहली ने खुलासा किया कि धोनी ने युवा ऋषभ पंत के लिये जगह बनाने के मद्देनजर आगामी टी20 सीरीज में नहीं खेलने का फैसला किया है. अब तक माना जा रहा था कि सिलेक्शन कमेटी ने धोनी को टी20 टीम से ड्रॉप किया है, लेकिन कोहली ने स्पष्ट किया कि यह फैसला खुद धोनी का था. उनके टीम में बने रहने से पंत के लिए जगह नहीं बनती. इसलिए उन्होंने खुद यह त्याग करने का फैसला किया. Also Read - एशिया कप के रद्द होने की खबर से इंकार नहीं किया जा सकता: बीसीसीआई अधिकारी

कोहली ने भारत को घरेलू मैदान पर एक और सीरीज में जीत के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘‘अगर मैं गलत नहीं हूं तो मुझे लगता है कि चयनकर्ता पहले ही इसे स्पष्ट कर चुके हैं. पहली बात तो… उनसे बात हो चुकी है. इसलिये मुझे कोई कारण नहीं दिखता कि मुझे यहां बैठकर यह सब समझाना चाहिए. मुझे लगता है कि जो कुछ हुआ था, चयनकर्ता वो सबकुछ बता चुके हैं.’’ Also Read - विराट-अनुष्का ने किया PM-CARES फंड को दान देने का ऐलान, जानिए कितनी है रकम

उन्होंने कहा, ‘‘मैं इस बातचीत का हिस्सा नहीं था. इसलिये चयनकर्ताओं ने जो बताया, वैसा ही हुआ था. मुझे लगता है कि लोग इस पर ज्यादा ही सोच विचार कर रहे हैं, जबकि ऐसा कुछ भी नहीं है. मैं यह आश्वस्त कर सकता हूं. वह अब भी इस टीम का अहम हिस्सा हैं और मुझे लगता है कि टी20 फॉर्मेट में ऋषभ जैसे खिलाड़ी को और मौका दिया जाना चाहिए.’’ Also Read - कोविड-19: यूपीसीए और केरल क्रिकेट संघ ने 50-50 लाख रुपए का दान देने का ऐलान किया

धोनी को वेस्टइंडीज और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आगामी टी20 सीरीज के लिए टीम में शामिल नहीं किया गया है. ऐसी भी संभावना है कि वह भारत के लिये खेल के इस फॉर्मेट में अब कभी नहीं खेलें. कोहली ने कहा, ‘‘वह नियमित तौर पर वनडे में हमारे लिये खेलते हैं. इसलिये अगर देखा जाये तो वह युवाओं को मदद करने की ही कोशिश कर रहे हैं. ऐसा कुछ नहीं है जैसा कि लोग सोच रहे हैं और मैं बतौर कप्तान निश्चित रूप से आपको आश्वस्त कर सकता हूं.’’

धोनी को ड्रॉप करने पर बोले सचिन, करियर के इस पड़ाव पर ड्रेसिंग रूम से मिलती है हेल्प

वेस्टइंडीज सीरीज में अम्बाती रायुडू और युवा गेंदबाज खलील अहमद के प्रदर्शन से खुश कोहली से जब इंग्लैंड में अगले साल होने वाले विश्व कप से पहले टीम की चिंताओं के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि मैदान पर लगातार कोशिश करते रहना महत्वपूर्ण है. उन्होंने कहा, ‘‘अगर हम मैदान पर बतौर फील्डिंग टीम कंसिस्टेंट हो सकते हैं तो इससे हमारे सभी विभागों में कंसिस्टेंसी आ जायेगी. मैदान में हम अब भी काफी सुधार कर सकते हैं. हमने अभ्यास सत्र में खिलाड़ियों से बात की कि फील्डिंग में सुधार के लिये अतिरिक्त प्रयास करने चाहिए और वे ऐसा कर भी रहे हैं.’’

रायडू और खलील को लेकर कप्तान कोहली ने बनायी थी योजना

कोहली ने कहा, ‘‘हमें लगता है कि हम इस विभाग में सुधार कर सकते हैं. निश्चित रूप से बल्लेबाजी और गेंदबाजी दो अहम पहलू हैं. फील्डिंग ऐसी चीज है जिस पर नियंत्रण किया जा सकता है. मैदान पर आपको सभी 11 खिलाड़ियों से इसकी जरूरत होती है.’’

रणजी ट्रॉफी: बेटे को आउट करने की रणनीति बना रहे थे पिता, मैदान पर दिखा पॉल्यूशन का असर

रविंद्र जडेजा की वापसी के बारे में पूछने पर कि क्या वह ऑलराउंडर स्थान के लिये दौड़ में सबसे आगे हैं तो कोहली ने कहा कि सौराष्ट्र के इस खिलाड़ी ने एशिया कप में वापसी के बाद से अच्छा प्रदर्शन किया है. उन्होंने कहा, ‘‘यह परिस्थितियों पर निर्भर करता है. जब हार्दिक (पंड्या) फिट हो जाता है तो देखना होगा कि विश्व कप में आप किस कॉम्बिनेशन के साथ जाना चाहोगे. अगर हार्दिक फिट होता है तो केदार भी स्पिन विकल्प बन सकता है. हार्दिक के फिट होने से आपको चार तेज गेंदबाजों के विकल्प भी मिलते हैं. केदार एक और स्पिनर हो सकता है. आपको एक और स्पिन विकल्प की जरूरत हो सकती है. टीम संतुलन में जडेजा भी अहम बन सकते हैं.’’

रोहित शर्मा ने अफरीदी-डिविलियर्स को पीछे छोड़ा, सबसे कम वनडे पारियों में जड़े 200 छक्के

कोहली ने कहा, ‘‘टेस्ट मैचों में भी मुझे लगता है कि उसने अच्छी बल्लेबाजी और गेंदबाजी की. मुझे महसूस होता है कि वह अपने खेल को बखूबी समझता है. उसने खुद पर काफी मेहनत की है, विशेषकर सफेद गेंद से.’’