नई दिल्ली. पहले हैदराबाद और फिर नागपुर जीतकर टीम इंडिया वनडे सीरीज जीतने की उम्मीद लिए जिस शान के साथ रांची यानि महेन्द्र सिंह धोनी के होमटाउन पहुंची थी उसे तब करारा झटका लगा जब वहां टीम इंडिया को हार से दो-चार होना पड़ा. धोनी के घरेलू मैदान पर ऑस्ट्रेलिया ने भारत के सीरीज पर कब्जा जमाने की उम्मीदों को 32 रन से मटियामेट किया. उसके बाद मोहाली में खेले चौथे वनडे में भी टीम इंडिया खाली हाथ रह गई. नतीजा ये हुआ कि सीरीज जीत का जो काम धोनी के घर में पूरा होता नजर आ रहा था वो अब भारतीय कप्तान विराट कोहली के घर आ पहुंचा है.

बतौर कप्तान कोटला पर पहला वनडे

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 5 वनडे मैचों की सीरीज का आखिरी मुकाबला दिल्ली के फिरोज शाह कोटला मैदान पर खेला जाना है. अब दिल्लीवाले विराट के सामने ऑस्ट्रेलिया से अपना घर जीतने की तो चुनौती है ही इसके साथ सीरीज फतह का डबल प्रेशर भी है. इस चैलेंज को और भी मजेदार बनाता है अपने होमग्राउंड पर बतौर कप्तान विराट का पहला मैच. बता दें कि वनडे सीरीज का आखिरी मुकाबला विराट कोहली का बतौर कप्तान कोटला पर पहला वनडे मुकाबला होगा. उधर, ऑस्ट्रेलियाई टीम भी पूरे 9 साल बाद इस मैदान पर वनडे मैच खेलेगी.

दिल्ली में लगेंगे जीत के ‘2 अर्धशतक’, वनडे सीरीज में टीम इंडिया देगी ऑस्ट्रेलिया को ‘पटक’

कोहली की कप्तानी में लगेगी ‘हैट्रिक’

ऑस्ट्रेलिया ने कोटला पर आखिरी वनडे 2009 में महेन्द्र सिंह धोनी की टीम इंडिया के साथ खेला था. अब ऐसे में अगर विराट अपनी कप्तानी में होमग्राउंड कोटला पर खेला जा रहा पहला वनडे मैच जीत लेते हैं इससे वो सीरीज फतह करने के साथ साथ खुद की कमान में ऑस्ट्रेलिया पर सीरीज जीत की हैट्रिक लगा देंगे. बता दें कि मौजूदा वनडे सीरीज से पहले भारत 2 सीरीज ऑस्ट्रेलिया से खेल चुका है और दोनों ही जीतने में कामयाब रहा है. इनमें एक सीरीज विराट एंड कंपनी ने अपनी सरजमीं पर साल 2017 में जीती. उसके बाद 2018 में ऑस्ट्रेलियाई धरती पर जाकर अपना लोहा मनवाया.

दिल्ली जीते तो बरकरार रहेगा अजेय रिकॉर्ड

दिल्ली जीतकर सीरीज सील करने से टीम इंडिया का बाइलेटरल वनडे सीरीज में भारतीय सरजमीं पर विराट कोहली की कप्तानी में अजेय रिकॉर्ड भी बरकरार रहेगा. भारत अब तक अपनी सरजमीं पर 5 वनडे सीरीज विराट की कमान में जीत चुका है. यानी, अजेय सिलसिले को बरकरार रखते हुए दिल्ली में सीरीज जीत का सिक्सर लगता दिख सकता है. ओवरऑल ये विराट की कमान में 12वीं बाइलेटरल वनडे सीरीज जीत होगी. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मौजूदा वनडे सीरीज को जीतने का चांसेज भारत के इसलिए भी ज्यादा है क्योंकि कोटला पर टीम इंडिया का रिकॉर्ड अच्छा है. ओवरऑल यहां खेले 19 वनडे में से 12 में उसे जीत मिली जबकि जबकि 6 मुकाबले उसने गंवाए हैं और 1 बेनतीजा रहा है.