अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट काउंसिल से खेल भावना का सम्मान मिलने से भारतीय कप्तान विराट कोहली काफी हैरान है। कप्तान कोहली को विश्व कप के दौरान फैंस को ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज स्टीव स्मिथ के खिलाफ हूटिंग करने से रोका था। कोहली के इस कदम की काफी तारीफ हुई थी।

बॉल टैंपरिंग मामले में दो साल का बैन झेलकर विश्व कप में वापस लौटे स्मिथ को इंग्लैंड के लोकल फैंस की ओर से भारी विरोध का सामना करना पड़ा। भारत-ऑस्ट्रेलिया मैच के दौरान भी स्मिथ को ऐसे ही माहौल का सामना करना पड़ा रहा था जो कि भारतीय कप्तान को नागवार गुजरा। कोहली ने फैंस को हूटिंग करने से रोका और उनसे स्मिथ का अभिवादन करने के लिए कहा।

आईसीसी को दिए बयान में कोहली ने कहा, “इतने सालों तक गलत चीजें करने की वजह से लोगों के नजरों में रहने के बाद मुझे हैरानी है ये अवार्ड मुझे दिया गया है।”

‘AUS ने भारत को पटख-पटख का धोया, 28वें ओवर में बल्‍लेबाजी करने नहीं आ सकते विराट’

बीसीसीआई टीवी से बातचीत में कोहली ने कहा कि वो किसी भी खिलाड़ी के खिलाफ हूटिंग करने का खेल भावना के अंतर्गत नहीं मानते हैं और इसका पूरा विरोध करते हैं।

मुंबई में एक कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे कोहली ने कहा, “अक्सर लोग किसी के प्रति बहुत जल्द ही धारणा बना लेते हैं और मैं अपनी टीम में मौजूदा युवा खिलाड़ियों को इस चीज का सामना करते नहीं देखना चाहता। हर किसी को खुद को जानने का समय दिया जाना चाहिए।”

अपने करियर की शुरुआत में कोहली को उनकी आक्रामकता के लिए जाना जाता था। उनके इस रवैए से कई दिग्गज खिलाड़ी नाखुश भी थे। हालांकि कप्तान बनने के बाद से मैदान पर कोहली के स्वभाव में काफी बदलाव आया है।