नई दिल्ली : दक्षिण अफ्रीका के गेंदबाज कागिसो रबाडा ने भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली को अपरिपक्व कहा था. कोहली ने मंगलवार को इसका जबाव देते हुए कहा कि वह आमने-सामने इस पर रबाडा से मुखातिब होंगे. कोहली ने रबाडा की तारीफ भी की है और उन्हें विश्व स्तर का गेंदबाज बताया है. भारत और दक्षिण अफ्रीका को बुधवार को आईसीसी विश्व कप-2019 के मैच में भिड़ना है.

मैच से पहले कोहली ने कहा, “मैं रबाडा के सामने कई बार खेला हूं. मुझे लगता है कि जिस चीज पर हमें बात करने की जरूरत होगी हम उस पर आमने-सामने बात कर लेंगे. मुझे इसके लिए प्रेस कान्फ्रेंस में जबाव देने की जरूरत नहीं है. वह विश्व स्तर के गेंदबाज हैं. उनके पास ऐसी योग्याता हैे कि वह किसी भी दिन किसी भी बल्लेबाजी को ध्वस्त कर सकते हैं.”

अपनी टीम के बारे में कोहली ने कहा कि जाधव अब पूरी तरह से फिट हैं. उन्हें कंधे में चोट लग गई थी. कोहली ने कहा, “जाधव अब पूरी तरह से फिट हैं. रवींद्र जडेजा भी अब परिपक्वता से बल्लेबाजी कर रहे हैं. हम जानते हैं कि हमने सभी क्षेत्र कवर कर लिए हैं. हम यहां हर परिस्थति में खेलने को तैयार हैं.”

दक्षिण अफ्रीका के तेज गेंदबाज डेल स्टेन कंधे में चोट के कारण विश्व कप से बाहर हो गए हैं. इस पर कोहली ने कहा, “मुझे उनके लिए बुरा लग रहा है. वह जब रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर में थे तब काफी खुश थे और अच्छी गेंदबाजी कर रहे थे. वह हमेशा से दक्षिण अफ्रीका के लिए खेलने को लेकर प्रेरित रहते थे. मैं इसे लेकर उनकी स्थिति समझ सकता हूं.”

विश्वकप 2019: भारत के मैचों की देर से शुरुआत टीम के लिए फायदेमंद, कोहली ने बताई वजह

भारत को इंग्लैंड में ही चैम्पियंस ट्रॉफी-2017 के फाइनल में चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के हाथों हार का सामना करना पड़ा था. कोहली ने कहा है कि उनकी टीम ने चैम्पियंस ट्रॉफी की गलतियों से सीखा है और आगे बढ़ी है. कोहली ने मंगलवार को कहा कि चैम्पियंस ट्रॉफी के बाद टीम में कलाई के स्पिनरों को लाना टीम के लिए बड़ा और अहम कदम साबित हुआ है.

भारत आईसीसी विश्व कप-2019 में बुधवार को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले मैच से अपने अभियान की शुरुआत करेगी. मैच से पहले संवाददाता सम्मेलन में कोहली ने कहा, “चैम्पियंस ट्रॉफी से जो सीखा है वो यह है कि हम वो क्रिकेट खेलें जो जानते हैं. फाइनल में बेहतर टीम जीती थी. हमने गैप कम किए हैं. हम कलाई के स्पिनर लेकर आए हैं जो मध्य के ओवरों में विकेट लेते हैं. चैम्पियंस ट्रॉफी की तुलना में हम बेहतर टीम बने हैं.”

विश्वकप में भारत का रिकॉर्ड दमदार, सबसे ज्यादा मैच जीतने के मामले में नंबर 3 पर

30 साल के इस बल्लेबाज ने अपनी टीम पर आत्मविश्वास जताया है. कोहली ने कहा, “पहले सप्ताह में धीरे-धीरे सुधार हुआ है. कुछ हल्के मैच हुए कुछ एकतरफा मैच हुए. लेकिन इनसे पता चला है कि जो टीम मानसिक संतुलन बनाए रखती है उस टीम को फायदा होता है.” कोहली ने कहा, “हम कल के मैच में बेहतर खेलने के लिए अपने अनुभव का उपयोग करना होगा. जो टीम दबाव झेल सकती है वो टूर्नामेंट जीत सकती है.”