नई दिल्ली. मयंक अग्रवाल को जिस मौके का इंतजार था वो घड़ी अब करीब आ गई है. विराट कोहली ने सैंटा बनकर क्रिसमस के मौके उन्हें जो उपहार दिया है उससे मेलबर्न में उनकी मनचाही मुराद पूरी हो गई है. मयंक अग्रवाल की मनचाही मुराद यानी कि टीम इंडिया में डेब्यू का चांस. इसके लिए मयंक को लंबा इंतजार करना पड़ा है. घरेलू क्रिकेट में दमदार परफॉर्मेन्स के बावजूद मयंक को इस साल पहले दक्षिण अफ्रीका और फिर इंग्लैंड के दौरे पर नजरअंदाज किया गया. इसके बाद वेस्टइंडीज के खिलाफ घरेलू टेस्ट सीरीज में उन्हें टीम में जगह मिली लेकिन प्लेइंग इलेवन में नहीं.

टीम इंडिया ने बदल डाले ओपनर्स, मेलबर्न टेस्ट के लिए भारत और ऑस्ट्रेलिया ने किया प्लेइंग XI का ऐलान

मयंक का मौका आया

हालांकि, किस्मत भी कब तक मयंक से रूठी रहती. कभी न कभी तो उसे भी मेहरबान होना ही था. ऑस्ट्रेलिया दौरे पर आखिरकार वो मौका आ ही गया. कमाल देखिए कि टीम इंडिया के लिए डेब्यू करने के मयंक अग्रवाल के नाम पर मुहर लगी भी तो क्रिसमस के दिन. मेलबर्न में होने वाले बॉक्सिंग डे टेस्ट के लिए विराट कोहली जब अपनी प्लेइंग इलेवन चुन रहे थे, तो उन्होंने पहले ओपनर के तौर पर मयंक अग्रवाल का नाम चुना.

विराट कोहली ने राहुल और विजय पर गिराई गाज, बॉक्सिंग डे टेस्ट में नई ओपनिंग जोड़ी बचाएगी ‘लाज’

घरेलू क्रिकेट में धांसू परफॉर्मेन्स

मयंक को ये जगह क्यों मिली और जगह मिलनी जरूरी भी क्यों थी अब उसे जरा इन आंकड़ों से समझिए. मयंक ने 2017-18 के घरेलू सीजन के तीनों फॉर्मेट में अपने बल्ले से धूम मचाया. मयंक ने रणजी सीजन 2017-18 में 13 पारियां खेलने के बाद 105.45 की औसत से 1160 रन बनाए, जिसमें एक तिहरे शतक सहित 5 शतक और 2 अर्धशतक शामिल थे. इसके बाद विजय हजारे ट्रॉफी 2018 सीजन में मयंक अग्रवाल ने 8 पारियों में 90.37 की औसत और 107.91 की स्ट्राइक रेट से 723 रन बनाए, जिसमें 3 शतक और 4 अर्धशतक शामिल रहे. वहीं, सैयद मुश्ताक अली T20 टूर्नामेंट में उन्होंने 9 इनिंग्स में 28.66 की औसत और 144.94 की स्ट्राइक रेट से 258 रन बनाए.

मिला है मौका, कर दो धमाका!

वो कहते हैं न देर आए दुरुस्त आए. मयंक को देर से ही सही मौका मिल चुका है. अब क्रिसमस पर मिले इस शानदार मौके को वो भुनाते कैसे हैं ये उनके परफॉर्मेन्स पर निर्भर करता है.