नई दिल्ली. टेस्ट क्रिकेट विराट कोहली का पसंदीदा फॉर्मेट है, ये बात वो खुद ही स्वीकार चुके हैं. क्रिकेट में कहा जाता है जो टेस्ट में बेस्ट वही हर फॉर्मेट में सर्वश्रेष्ठ. और, अगर किसी बल्लेबाज को परखने का यही पैमाना है तो फिर विराट कोहली इस वक्त दुनिया के नंबर एक बल्लेबाज हैं. बड़ी बात ये है कि बल्लेबाजी में विराट की श्रेष्ठता पर ICC की भी मुहर लग चुकी है. हालांकि, ऐसा नहीं है कि नंबर 1 बल्लेबाज की जंग में विराट को चुनौतियों का सामना नहीं करना पड़ा. इस रेस में उन्हें अपने समकक्ष खड़े स्टीव स्मिथ, केन विलियम्सन और जो रूट से जोरदार टक्कर मिली. लेकिन, जैसे-जैसे रेस आगे बढ़ी विराट ने सबको पीछे छोड़ दिया. Also Read - भारतीय टीम से बुरी तरह नाराज हैं Brad Hogg, बोले- Steve Smith की कमजोरी का क्‍यों नहीं उठा पा रहे फायदा ?

ICC रैंकिंग में नंबर 1 Also Read - मार्नस लाबुशाने ने स्मिथ के शतक को बताया 'करियर में देखी सबसे बेहतरीन पारी'

विराट कोहली की श्रेष्ठता को परखने का सबसे ताजा उदाहरण है एजबेस्टन टेस्ट. इंग्लैंड के खिलाफ खेले इस टेस्ट में विराट की बल्लेबाजी में जो टेम्परामेंट और क्लास दिखा वो सबसे जुदा रहा. खुद ICC ने भी इसे सराहा और विराट का लोहा मानते हुए उन्हें स्टीव स्मिथ की जगह टेस्ट में बेस्ट बल्लेबाज का तमगा दिया. ICC टेस्ट रैंकिंग में विराट 934 रेटिंग प्वाइंट के साथ नंबर वन बल्लेबाज बने हैं. जबकि, स्टीव स्मिथ 929 अंक के साथ नंबर दो पर हैं. तीसरे नंबर पर मौजूद इंग्लैंड के जो रूट के 865 अंक हैं वहीं न्यूजीलैंड के केन विलियम्सन 847 प्वाइंट के साथ दुनिया के नंबर 4 बल्लेबाज हैं. Also Read - विराट कोहली vs स्टीव स्मिथ: देखें: पिछली 10 वनडे पारियों स्मिथ का रहा है जलवा

ICC टेस्ट रैंकिंग

रैंक                        बल्लेबाज                        रेटिंग प्वाइंट

1                          विराट कोहली                      934

2                           स्टीव स्मिथ                         929

3                            जो रूट                             865

4                         केन विलियम्सन                    847

कप्तानी के साथ बल्लेबाजी पर कौन खरा?

कमाल की बात है कि ये चारों बल्लेबाज अपनी-अपनी टीमों के कप्तान भी हैं. बेशक, स्मिथ पर इस वक्त 1 साल का बैन लगा है और वो इंटरनेशनल क्रिकेट से दूर हैं लेकिन जब वो खेल रहे थे ऑस्ट्रेलियाई टीम के कप्तान रहे थे. ऐसे में इन चारों के बीच श्रेष्ठ कौन है उसका सटीक अंदाजा लगाने के लिए इस बात पर भी गौर करना होगा कि टेस्ट कप्तानी के भार के साथ बल्लेबाजी में कौन ज्यादा निखरा है.

‘फैब फोर’ में विराट ‘बीस’

टेस्ट क्रिकेट में बतौर बल्लेबाज विराट कोहली का कन्वर्जन रेट यानी स्कोर को बड़े स्कोर में बदलने का प्रतिशत 41.2 का रहा है. वहीं, कप्तान बनने के बाद उनका ये कन्वर्जन रेट 71 फीसदी का हो गया है. स्टीव स्मिथ का कन्वर्जन रेट बतौर बल्लेबाज 42.1 फीसदी रहा है, जो कि कप्तान बनने के बाद 53.6 प्रतिशत हो गया है. केन विलियम्सन का कन्वर्जन रेट एक बल्लेबाज के तौर पर 40.6 फीसदी रहा है जबकि कप्तान बनने के बाद उन्होंने 41.7 फीसदी स्कोर को बड़े स्कोर में बदला है. बतौर बल्लेबाज इंग्लैंड के जो रूट का कन्वर्जन रेट 29 फीसदी का रहा है जो कि कप्तान बनने के बाद घटकर 12.5 फीसदी का हो गया.

‘फैब फोर’ का कन्वर्जन रेट  (टेस्ट में)

                                     विराट कोहली                   स्टीव स्मिथ                  केन विलियम्सन                जो रूट

बतौर बल्लेबाज (%)            41.2                               42.1                             40.6                             29

बतौर कप्तान (%)                 71                                 53.6                             41.7                             12.5

विराट इज द बेस्ट- माइक ब्रेयरली

साफ है कप्तान बनने के बाद बड़ी पारियां खेलने के मामले में विराट कोहली फैब फोर की टोली में सबसे बेहतर हैं. वहीं इंग्लैंड के जो रूट के प्रदर्शन का ग्राफ गिरा है. इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइक ब्रेयरली ने माना है कि जो रूट, विराट कोहली की तरह बेहतरीन बल्लेबाज नहीं हैं क्योंकि उनमें अच्छी शुरुआत को बड़े स्कोर में बदलने की काबलियत नहीं हैं. ब्रेयरली ने कहा, ” विराट बेस्ट हैं क्योंकि उनमें आक्रामकता है.”

अब बादशाहत को नई ऊंचाई देने का चैलेंज

विराट सबसे ज्यादा रेटिंग प्वाइंट के साथ नंबर वन की कुर्सी पर बैठने वाले भारतीय बल्लेबाज हैं. वहीं एशिया में सबसे ज्यादा रेटिंग प्वाइंट हासिल करने वाले बल्लेबाज कुमार संगकारा से बस वो 4 अंक पीछे हैं. यानी, लॉर्ड्स में खेले जाने वाले दूसरे टेस्ट में विराट एशिया में सबसे ज्यादा रेटिंग अंक हासिल करने वाले बल्लेबाज भी बन सकते हैं. और, जिस फॉर्म में है उसे देखते हुए हो सकता है कि सीरीज के खत्म होते-होते वो ऑलटाइम सर्वश्रेष्ठ रेटिंग के करीब पहुंचकर वो अपनी श्रेष्ठता को नए लेवल पर ले जाएं.