न्यूजीलैंड (New Zealand) के खिलाफ क्राइस्टचर्च में खेले गए आखिरी मैच के दौरान फैंस को अपशब्द कहने की वजह से आलोचना झेल रहे भारतीय कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) के बचपन के कोच राजकुमार शर्मा का कहना है कि उनके शिष्य ने कभी आक्रामकता और दुर्व्यवहार के बीच की रेखा को नहीं लांघा। Also Read - विराट कोहली ने कहा- मेरे कप्तान बनने के पीछे महेंद्र सिंह धोनी का बड़ा हाथ

शर्मा ने कहा, ‘‘जब वो (कोहली) देश के लिए अच्छा प्रदर्शन करता है तो सभी उसकी इसी आक्रामकता की सराहना करते हैं। मेरा मानना है कि आक्रामकता उसका मजबूत पक्ष है। लेकिन आक्रामकता और बदतमीजी के बीच एक रेखा है। उन्होंने कभी उस रेखा को पार नहीं किया। आक्रामकता उन्हें अच्छा प्रदर्शन करने के लिए प्रेरित करती है।’’ Also Read - ऐतिहासिक जीत हासिल करने की प्रेरणा लेकर ऑस्ट्रेलिया गई थी टीम इंडिया : इशांत शर्मा

मामला क्राइस्टचर्च में दूसरे टेस्ट मैच के दौरान विपक्षी कप्तान केन विलियमसन के आउट होने पर कोहली के जश्न मनाने और दर्शकों की तरफ इशारा कर उन्हें चुप रहने के लिए कहने का है। जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। Also Read - भारतीय कप्तान विराट कोहली की सफलता के पीछे है इस पूर्व खिलाड़ी का हाथ

विराट कोहली शानदार खिलाड़ी, एक खराब सीरीज को उसके खिलाफ इस्तेमाल ना करें : प्रसाद

कोहली इस सीरीज में दो मैचों की चार पारियों में केवल 38 रन ही बना पाए। न्यूजीलैंड दौरे में तीनों फॉर्मेट में वो 218 रन ही बना सकते जिसमें एक अर्धशतक शामिल है। शर्मा ने कहा, ‘‘हर खिलाड़ी बुरे दौर से गुजरता है। चिंता की कोई बात नहीं है। वह बहुत अच्छा खिलाड़ी है और जानता है कि क्या गलत हो रहा है। हम इस पर बात कर चुके हैं। वह जल्द वापस करेगा। ’’