सिडनी: संन्यास ले चुके क्रिकेटरों का टी20 लीग में खेलना आम बात है, लेकिन भारतीय कप्तान विराट कोहली ने कहा है कि जब वह संन्यास लेंगे तो दोबारा बल्ला नहीं पकड़ेंगे. जब यह पूछा गया कि क्या संन्यास लेने या बीसीसीआई के प्रतिबंध हटाने पर वह ऑस्ट्रेलिया की बिग बैश लीग में खेलेंगे तो कोहली ने कहा कि निश्चित तौर पर संन्यास लेने के बाद वह इस तरह के किसी टूर्नामेंट के लिए उपलब्ध नहीं होंगे. Also Read - BBL 2020-21,Melbourne Stars vs Hobart Hurricanes: दिल्ली कैपिटल्स की ओर से IPL 2020 में जलवा बिखेर चुके इस कंगारू खिलाड़ी ने अब बीबीएल में खेली धांसू पारी

Also Read - BBL 2020-21: पीटर सीडल ने फॉकनर को मांकडिंग की चेतावनी देकर छोड़ा, देखें VIDEO

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शनिवार को होने वाले पहले वनडे मैच की पूर्व संध्या पर भारतीय कप्तान ने कहा, ‘‘देखिए, मुझे नहीं पता कि भविष्य में इस तरह के रुख में बदलाव आता है या नहीं. जहां तक मेरा सवाल है तो एक बार संन्यास लेने के बाद और क्रिकेट खेलना, ईमानदारी से कहूं तो मुझे नहीं लगता कि मैं उन लोगों में शामिल हूं.’’ Also Read - Big Bash League 2020-21: हॉबर्ट हरीकेन्स vs सिडनी सिक्सर्स, कब और कहां देख सकेंगे पहले मैच की लाइव स्ट्रीमिंग

पांड्या-राहुल के साथ नहीं विराट कोहली, विवादित बयान को बताया गलत

एबी डिविलियर्स और ब्रेंडन मैकुलम जैसे संन्यास ले चुके क्रिकेटर नियमित तौर पर आईपीएल और बिग बैश लीग जैसी टी20 लीग में खेलते हैं, लेकिन कोहली ने कहा कि उनकी इस सूची मे जुड़ने में कोई रुचि नहीं है. उन्होंने कहा, ‘‘पिछले पांच साल में मैंने पर्याप्त क्रिकेट खेला है. मैं इस पर भी टिप्पणी नहीं कर सकता कि संन्यास लेने के बाद मैं पहली चीज क्या करूंगा क्योंकि मुझे नहीं लगता कि मैं दोबारा बल्ला उठाऊंगा.’’

सिडनी वनडे में नहीं खेल पायेंगे पांड्या-राहुल, लौटना होगा भारत

कोहली ने कहा, ‘‘जिस दिन मैं खेलना बंद करूंगा उस दिन मेरी सारी ऊर्जा खत्म हो चुकी होगी. यही कारण है कि मैं क्रिकेट खेलना छोड़ दूंगा. इसलिए मुझे स्वयं के दोबारा मैदान पर उतरकर खेलने की संभावना नहीं दिखती.’’

ऑस्‍ट्रेलियाई टीम ने टीम इंडिया को मात देने के लिए बनाई ये रणनीति, निशाने पर होगा टॉप ऑर्डर

कप्तान ने अपनी टीम के बल्लेबाजी क्रम की जमकर तारीफ की. उन्‍होंने कहा कि इंग्लैंड में 30 मई से शुरू हो रहे वर्ल्‍ड कप से पहले बल्लेबाजी क्रम काफी मजबूत नजर आ रहा है. उन्होंने कहा, ‘‘पिछले 12 महीने में वनडे मैचों में हमारी बल्लेबाजी काफी मजबूत रही और इसमें सलामी बल्लेबाजों की बड़ी भूमिका रही. हमने मिड्ल ओवर्स की समस्या का हल निकाला और 25 से 40 ओवर तक अपनी बल्लेबाजी शैली में बदलाव का प्रयास किया.’’ कोहली का मानना है कि भारतीय टीम का संतुलन प्रत्येक विभाग में बेहतरीन है.