अपने समय के विस्‍फोटक बल्‍लेबाज वीरेंद्र सहवाग को खेलने की शैली में परिवर्तन करने की सलाह कई दिग्‍गजों ने दी, लेकिन उन्‍होंने कभी किसी की सलाह नहीं मानी. क्रिकेट जगत में एक दिग्‍गज ऐसे भी हैं जिनकी बात सहवाग ने मानी भी और उसे मानने से वीरू को खेल में काफी फायद भी हुआ. Also Read - सस्ते में सिमटा इंग्लैंड तो Virender Sehwag ने Rahul Gandhi का VIDEO शेयर कर यूं ली मौज

पढ़ें:- IND vs AUS : ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ रोहित शर्मा-विराट कोहली के रिकॉर्ड हैं शानदार, कंगारू टीम के लिए खतरे की घंटी Also Read - फिर बैटिंग करती दिखेगी Sachin Tendulkar और Virender Sehwag की जोड़ी, इस T20 टूर्नामेंट में ले रहें हैं भाग

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 16,000 से ज्यादा रन बना चुके सहवाग ने  बीसीसीआई के वार्षिक अवॉर्ड समारोह के दौरान ‘एमएके पटौदी स्मारक व्याख्यान’ में बोलते हुए इस संबंध में खुलासा किया. समारोह में नवाब पटौदी की पत्‍नी शर्मिला टैगोर भी मौजूद थी. Also Read - वीरेंद्र सहवाग से तुलना कर रिषभ पंत के लिए माइकल वॉन ने कही बड़ी बात, इस एक काम में बताया माहिर खिलाड़ी

वीरेंद्र सहवाग ने नवाब पटौदी साहब के साथ अपनी यादों और मुलाकातों को साझा करते हुए कहा, ‘‘मेरा उनसे करीबी रिश्ता है. मैं उनसे पहली बार 2005-06 में मिला था, मैंने उनसे पूछा कि आपने मुझे खेलते हुए देखा है, मैं अपने खेल में कैसे सुधार कर सकता हूं.”

“उन्होंने मुझे सिर्फ एक बात कही, ‘जब आप बल्लेबाजी कर रहे होते हैं, तो आप गेंद से दूर होते हैं. यदि आप पास रहेंगे, तो आप आउट नहीं होंगे.’’

‘‘ मैंने कभी किसी की सलाह नहीं मानी है , दादा (सौरव गांगुली) भी बैठे हैं, लेकिन मैंने उनकी सलाह मानी जिसका असर यह हुआ कि मैंने टेस्ट क्रिकेट में काफी रन बनाए. इसका श्रेय उन्हें जाता है.’’