नई दिल्ली : भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने कहा है कि चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी पर आईपीएल के नियमों का उल्लंघन करने के कारण दो से तीन मैचों का प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए था. धोनी इंडियन प्रीमियर लीग के 12वें संस्करण में राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ खेले गए मैच में अंपायर के फैसले के खिलाफ डगआउट से मैदान पर आ गए थे. इसके कारण धोनी को काफी आलोचनाओं का शिकार होना पड़ रहा है. धोनी की आधी मैच फीस काट ली गई है. Also Read - यूपी: कोरोना संक्रमितों को भर्ती न करने पर हॉस्पिटल संचालकों पर होगी FIR, योगी सरकार का आदेश

वेबसाइट क्रिकबज ने सहवाग के हवाले से लिखा है, “अगर उन्होंने यह भारतीय टीम के लिए किया होता तो मैं काफी खुश होता. मैंने उन्हें भारतीय टीम की कप्तानी के दिनों में इतने गुस्से में कभी नहीं देखा. मुझे लगता है कि वह चेन्नई को लेकर कुछ ज्यादा ही भावुक हो रहे हैं.” Also Read - Corona Cases In Maharashtra: राज्य में आज भी मिले 60 हजार से अधिक केस, हालात गंभीर

ताहिर ने धोनी को बताया प्रेरणास्रोत, कहा- माही हैं बेस्ट कैप्टन Also Read - IPL 2021 RR vs DC Live Updates and Score in Hindi: राजस्थान को सातवां झटका; आवेश का शिकार बने मिलर

उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि जब चेन्नई के दो खिलाड़ी मैदान पर थे तब उन्हें मैदान पर नहीं आना चाहिए था. वह दो खिलाड़ी भी नो बॉल को लेकर उतने ही गुस्से में थे जितने धोनी. इसलिए मुझे लगता है कि उन्हें इसे जाने देना चाहिए था.”

पूर्व सलामी बल्लेबाज ने कहा, “इसके लिए उन पर आईपीएल के नियमों के हिसाब से दो से तीन मैच का प्रतिबंध लगना चाहिए ताकि एक उदाहरण दिया जा सके. उन्हें मैदान से बाहर ही रहना चाहिए था.”

विश्व कप 2019: गंभीर का टीम इंडिया को सुझाव, नंबर-4 पर इस खिलाड़ी को मिले जगह

इस मैच के आखिरी ओवर में बेन स्टोक्स द्वारा फेंकी गई फुलटॉस को अंपायर ने पहले नो बॉल दिया था, लेकिन बाद में लेग अंपयार के कारण यह फैसला बदल दिया गया था. इस पर मैदान पर मौजूद चेन्नई के मिशेल सैंटनर और रवींद्र जडेजा अंपायर के फैसले से नाखुश दिखे थे और उन्होंने इसकी शिकायत भी की थी. इसी बीच धोनी मैदान पर आकर अंपायरों से बहस करने लगे थे.