कोरोना काल में बॉर्डर पर 20 जवानों की मौत से पैदा हुए हालातों को देखते हुए केंद्र सरकार चीनी कंपनियों के खिलाफ सख्‍त रुख अपनाए हुए है. इसके चलते अब वीवो काे आईपीएल स्‍पोंसरशिप से हटाने का दबाव भी बढ़ने लगा है.Also Read - Live Score SL vs BAN T20, World Cup 2021: रिकॉर्ड को बेहतर करने उतरेगा बांग्लादेश

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने सभी बैंकों को यह निर्देश दिया है कि कोरोना संकट के चलते उनके खातों पर पड़े असर की विस्‍तृत जांच करे. मुश्किल वक्‍त में केंद्रीय बैंक की तरफ से तमाम बैंकों के वित्‍तीय स्‍वास्‍थ्‍य की जांच करने की दिशा में यह पहला महत्‍वपूर्ण कदम है. Also Read - Live Score IND vs PAK T20, World Cup 2021: हाईवोल्टेज मैच आज, पाकिस्तान के खिलाफ लगातार छठी जीत दर्ज करने उतरेगा भारत

चीन के साथ बॉर्डर पर ताजा हालातों को देखते हुए गृह मंत्रालय भारत में निवेश का आवेदन करने वाली चीनी कंपनियों के प्रवेश को भी स्‍थगित कर सकता है. बताया जा रहा है कि भारत में निवेश से पहले सिक्‍योरिटी क्‍लीयरेंस के लिए अप्रैल-मई के महीने में सरकार को 20 चीनी कंपनी आवेदन कर चुकी हैं. Also Read - India vs Pakistan T20 World Cup 2021: भारत से निपटने के लिए इमरान खान ने की पाकिस्‍तान टीम से बा‍त, क्‍या टिप्‍स आएगी काम ?

इस सप्‍ताह आईपीएल गवर्निंग बॉडी की मीटिंग भी होनी है, जिसमें मौजूदा हालातों में वीवो से स्‍पॉंसरशिप छीनना अहम मुद्दा है. सैनिकों की मौत के बाद भारत में चीनी विरोधी माहौल है. ऐसे में चीनी सामान का विरोध बड़े स्‍तर पर किया जा रहा है. ऐसे में माना जा रहा है कि बीसीसीआई को भी वीवो के साथ नाता तोड़ने पर मजबूर होना पड़ेगा.