नई दिल्ली: महान क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्मण ने स्टार स्पोर्ट्स के साथ मिलकर फेसबुक लाइवस्ट्रीम के जरिये अपनी आत्मकथा ‘281 एंड बियॉन्‍ड’ का कवर लॉन्‍च किया. उनकी आत्मकथा 19 नवंबर को बाजार में आयेगी जिसमें सह लेखक खेल पत्रकार आर कौशिक हैं.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद से ही लक्ष्मण अपनी आत्मकथा लिखना चाहते थे. उन्होंने शुक्रवार को इसका कवर लॉन्‍च करने के दौरान कहा कि यह किताब देश के एक खिलाड़ी की ‘अनोखी, पर सामान्य’ दास्तान बयां करेगी. किताब का ‘टाइटल’ 2001 में ईडन गार्डन्स में आस्ट्रेलिया के खिलाफ लक्ष्मण की 281 रन की शानदार पारी से प्रेरित है जिसने सीरीज का रुख ही बदल दिया था.

धोनी के बिना वेस्टइंडीज के खिलाफ टी-20 में उतरेगी टीम इंडिया

इस खिलाड़ी ने कहा, ‘‘मेरी जिंदगी का निर्णायक मोड़ 281 रन की पारी थी. किताब में मैंने मैच में खेलने के बारे में बात की है कि मैं मैच के लिये समय पर कैसे फिट हुआ. चौथे दिन राहुल द्रविड़ के साथ मेरी बल्लेबाजी और हमने वो साझेदारी कैसे बनाई तथा और भी कुछ.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि उस टेस्ट सीरीज ने हमें काफी कुछ सिखाया. इसने हमें प्रगतिशील और आक्रामक रवैया सिखाया कि हम दुनिया में किसी के भी खिलाफ अच्छा कर सकते हैं.’’

आईसीसी की वनडे रैंकिंग में युजवेंद्र चहल पहली बार टॉप 10 में, कोहली-बुमराह शीर्ष पर

1996 में अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट में डेब्‍यू करने वाले लक्ष्‍मण ने भारतीय टीम के लिए 134 टेस्‍ट मैच खेले हैं और 17 शतकों के साथ 8781 रन बनाए हैं. 86 वनडे मैचों में उनके नाम 2338 रन दर्ज हैं. भारत की टेस्‍ट टीम के नियमित सदस्‍य तथा सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़ और सौरव गांगुली के साथ फैब फोर का हिस्‍सा रहे लक्ष्‍मण की 281 रन की पारी विजडन की सदी की सबसे बेहतरीन पारियों की लिस्‍ट में शामिल है.