नई दिल्ली: निदाहस ट्रॉफी का फाइनल मैच भारत और बांग्लादेश के बीच रविवार को कोलम्बो में खेला गया, जिसमें टीम इंडिया ने 4 विकेट से जीत हासिल की. इस सीरीज में टीम इंडिया के युवा गेंदबाज वॉशिंगटन सुंदर ने सभी का ध्यान आकर्षित किया. सुंदर ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए इस सीरीज के 5 मैचों में 8 विकेट झटके. इस दौरान उन्होंने महज 5.70 की इकॉनमी से रन दिए. यह इस सीरीज का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है. सुंदर के इस दमदार प्रदर्शन की वजह से उन्हें मैन ऑफ द सीरीज चुना गया. उन्होंने यह खिताब जीतने के बाद इसका श्रेय अपने परिवार को दिया.

VIDEO: शार्दुल ने पकड़ा हैरान कर देने वाला कैच, देखकर आप भी रह जायेंगे दंग

सुंदर राइट आर्म ऑफब्रेक गेंदबाजी करते हुए. इस सीरीज में सुंदर ने पाकिस्तान के पूर्व दिग्गज खिलाड़ी वकार यूनुस और भारत के पूर्व खिलाड़ी नरेन्द्र हिरवानी का रिकॉर्ड तोड़ दिया. दरअसल उन्होंने सबसे कम उम्र में मैन ऑफ द सीरीज बनने के मामले में वकार और हिरवानी को पीछे छोड़ दिया है. सुंदर ने 18 साल और 164 दिन की उम्र में यह खिताब हासिल किया. वहीं वकार ने 1990 में 18 साल और 169 दिन की उम्र में यह खिताब जीता था. इसके अलावा हिरवानी 1990 में 19 साल और 166 दिन की उम्र में ‘मैन ऑफ द सीरीज’ बने थे.

VIDEO: IPL2018 से पहले राजस्थान रॉयल्स ने लॉन्च किया एंथम सॉन्ग, अनूठे अंदाज में देखें फिर हल्ला बोल

मैन ऑफ द सीरीज बनने के बाद सुंदर ने कहा, मेरे लिए निश्चित तौर पर कम उम्र में यह अवॉर्ड जीतना मायने रखता है. मैं इसके लिए अपने परिवार को शुक्रिया कहना चाहूंगा. यह उन्हीं को समर्पित है. जब आप अपने देश के लिए खेलते हैं तब हर चुनौती से लड़ने के लिए तैयार होना पड़ता है. यह का ग्राउंड काफी अच्छा था और मैंने यहां गेंदबाज का आनंद उठाया. मेरी हमेशा कोशिश रहती है कि मैं बल्लेबाज के दिमाग को पढ़ूं और उसकी के मुताबिक गेंदबाजी करूं.