पाकिस्तान के महान तेज गेंदबाज वसीम अकरम (Wasim Akram) पाकिस्तन क्रिकेट बोर्ड (PCB) के साथ मिलकर काम करने को तैयार नहीं हैं. पीसीबी उन्हें नेशनल टीम का चीफ सेलेक्टर बनाना चाहता था, लेकिन वसीम अकरम ने कहा कि मौजूदा व्यवस्था के साथ वह काम नहीं करेंगे और इसलिए उन्होंने अपना नाम वापस ले लिया है.Also Read - BAN vs PAK T20: क्‍लीन स्‍वीप होने के बावजूद BCB का ट्रॉफी देने से इनकार, बवाल बढ़ने पर दिया अटपटा तर्क

मुख्य चयनकर्ता के लिए अकरम पहली पसंद थे. लेकिन उन्होंने बोर्ड के सामने यह शर्त रख दी कि अगर वह चाहता है अकरम चीफ सेलेक्टर बनें तो उसे पुरानी व्यवस्था लागू करनी होगी. Also Read - हैदर-रिजवान की शानदार साझेदारी की बदौलत तीसरे टी20 में बांग्लादेश को हरा पाकिस्तान ने सीरीज 3-0 से जीती

पुरानी व्यवस्था में बोर्ड मुख्य चयनकर्ता की अध्यक्षता में 3 या 5 सदस्यीय राष्ट्रीय चयन समिति का गठन करता है, जो टीमों को चुनती है और उस पर बोर्ड अध्यक्ष स्वीकृति जताते हैं. लेकिन बोर्ड ने अक्टूब 2019 से नई व्यवस्था लागू की है, जिसमें राष्ट्रीय के कोच मिस्बाह उल हक थे, जो मुख्य चयनकर्ता भी हैं. इसके अलावा इस समिति में बाकी 6 सदस्य प्रांतीय टीमों के मुख्य कोच होते हैं. Also Read - पीसीबी के 'हाई परफॉर्मेंस सेंटर' से खुश नहीं हैं अध्यक्ष रमीज राजा, हो सकता है बड़ा बदलाव

पीटीआई की एक खबर के मुताबकि, एक सूत्र ने बताया, ‘अकरम ने कहा कि वह मौजूदा व्यवस्था में काम नहीं कर सकते. उन्होंने कहा कि बोर्ड को उनकी सेवाएं लेनी है तो पुरानी व्यवस्था लागू करनी होगी.’

पाकिस्तान के मुख्य कोच और मुख्य चयनकर्ता की दोहरी भूमिका निभा रहे मिस्बाह उल हक ने हाल ही में मुख्य चयनकर्ता की पोस्ट से इस्तीफा दे दिया. उन्होंने कहा कि दो भूमिकाओं के चलते वह मुख्य कोच के रूप में अपनी जिम्मेदारी ठीक से नहीं निभा पा रहे थे. लिहाजा वह एक ही भूमिका में काम करना चाहते हैं.