भारतीय टेस्ट टीम (Indian Cricket Team) के पूर्व सलामी बल्लेबाज वसीम जाफर (Wasim Jaffer) को लगता है कि अगर वो निरंतर अच्छा प्रदर्शन करते तो राष्ट्रीय टीम के लिए 100 से ज्यादा टेस्ट मैच खेल सकते थे. जाफर ने स्पोटर्सटाइगर के शो ‘ऑफ द फील्ड’ पर कहा, ‘मैं निरंतर अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रहा था. अगर करता तो 100 से ज्यादा टेस्ट मैच खेलता. मैं इंटरनेशनल स्तर पर ज्यादा निरंतर नहीं था, इसलिए मुझे बाहर कर दिया गया.’ Also Read - IPL 2020, DC vs KXIP: दिल्ली-पंजाब मुकाबले में इन खिलाड़ियों पर रहेगी फैंस की नजर

उन्होंने कहा, ‘मैं अपने इंटरनेशनल करियर की तुलना में अपने प्रथम श्रेणी करियर की वजह से ज्यादा मशहूर रहा.’ Also Read - IPL 2020 के बाद यूएई में ही खेली जाएगी भारत-इंग्लैंड सीरीज

31 टेस्ट मैच खेले हैं वसीम जाफर ने    Also Read - विराट कोहली के बाद टीम इंडिया का अगला कप्तान कौन? आकाश चोपड़ा ने बताया दावेदार का नाम

जाफर को घरेलू क्रिकेट का दिग्गज माना जाता है. उन्होंने 260 प्रथम श्रेणी मैचों में 19,000 से ज्यादा रन बनाए हैं. इस दौरान उनका औसत 50.67 रहा है और सर्वोच्च स्कोर 314 रहा. भारत के लिए उन्होंने 31 टेस्ट मैच खेले हैं और 34.11 की औसत से 1944 रन बनाए हैं.

जाफर ने कहा, ‘2012-13 में मैं दोबारा टीम में जाने के करीब था, लेकिन शिखर धवन (Shikhar Dhawan) का चयन हो गया. कई बार मैं काफी करीब पहुंचा लेकिन जगह नहीं बना पाया. चयनकर्ता इस बारे में सटीक जवाब दे सकते हैं, लेकिन मैं बार-बार दरवाजा खटखटाता रहा.’

उत्तराखंड टीम के मुख्य कोच नियुक्त किए गए हैं

जाफर ने इस साल क्रिकेट से संन्यास का ऐलान किया और वो उत्तराखंड टीम के मुख्य कोच नियुक्त किए गए हैं.

अपने नए रोल पर जाफर ने कहा, ‘ये काफी अच्छी चीज है, जो मेरे लिए काफी नई है. मैंने कोचिंग की है लेकिन मुख्य कोच के तौर पर नहीं. मैंने बल्लेबाजी सलाहकार के रूप में काम किया है और थोड़ा बहुत कोचिंग में मदद की है, लेकिन पूरी टीम को साथ लेकर चलना काफी चुनौतीपूर्ण है. मैं इसके लिए तैयार हूं.’