नई दिल्ली. पर्थ में मुकाबला भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच है. लेकिन, दोनों टीमों की भिड़ंत से ज्यादा चर्चा पर्थ की पिच को लेकर हो रही है. यानी, जिस 22 गज के एरिया में भारत और ऑस्ट्रेलिया जीत के लिए जद्दोजहद करते दिखेंगे उसकी बातें ज्यादा हो रही है. अब ऐसा क्यों है वो समझिए. इसकी सबसे बड़ी वजह है उसका ‘खूंखार’ मिजाज. Also Read - Virat-Anushka के घर आई नन्ही परी तो Amitabh Bachchan ने क्रिकेट टीम से निकाला गजब का कनेक्शन, देखें Tweet

वो कहते हैं न कि सूरत बदलने से सीरत नहीं बदलती. ठीक ऐसा ही WACA की पिच को लेकर भी कहा जा सकता है. भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच दूसरा टेस्ट मैच पर्थ के नए स्टेडियम पर खेला जाना है. लेकिन, नया स्टेडिमय होने के बावजूद पिच का मिजाज नहीं बदला है. WACA के पिच क्यूरेटर ब्रेट सिप्थ्रोप के मुताबिक, “पिच पर घास है, बाउंस है और वो रफ्तार है जो अच्छे-से अच्छे बल्लेबाजों को डरा सकती है.”

pjimage (33)

दूसरे टेस्ट से पहले टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने जब पर्थ की पिच का मुआयना किया, उसे पढ़ा और परखा तो वो भी क्यूरेटर की बातों से सहमति जताते तो दिखे लेकिन साथ ही ये भी कहा अब ऐसी पिचों से भारतीय टीम घबराती कम और डराती ज्यादा है.

पर्थ की पिच को देखने के बाद विराट ने कहा, ” पिच के रंग-रूप को देखकर मैं खुश हूं. उम्मीद है पिच पर जितनी घास दिख रही है उतनी इगर रहती है तो पहले 3 दिन के खेल में बड़ा मजा आने वाला है. ये एक टीम के तौर पर हमारे लिए खुशी देने वाली बात होगी. हमे बस बल्लेबाजी अच्छी करनी होगी, उसके बाद गेंदबाजों को अपना काम ठीक वैसे ही करने देना होगा, जैसे उन्होंने एडिलेड में किया था. मुझे लगता है इस पिच पर गेंदबाजों के लिए एडिलेड से ज्यादा कुछ करने को है और ये सोचकर ही मैं उत्साहित हो रहा हूं. ”

जिस फास्ट एंड फ्यरियश पिच को देखकर कोहली के चेहरे पर सिकन आनी चाहिए थी, उसकी जगह अगर कॉन्फिडेंस झलक रहा है तो इसकी वजह हैं उनके फास्ट बॉलर, जिसे दुनिया अब तक की सबसे बेहतरीन भारतीय पेस अटैक मान रही है.विराट बार-बार ये कहते रहे हैं टेस्ट क्रिकेट में जीत के लिए सबसे जरूरी होता है 20 विकेट लेना और पर्थ की पिच को देखने के बाद जिस तरह से विराट के लार टपक रहे हैं उससे साफ है कि WACA की आधी जंग उन्होंने अभी जीत ली है.