साल 2002 में इंग्‍लैंड की धरती पर खेली गई नेटवेस्‍ट सीरीज तो सभी को याद होगी. भारत की इस ऐतिहासिक जीत के बाद तत्‍कालीन कप्‍तान सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) ने हवा में शर्ट लहराई थी. इस किस्‍से को आज भी याद किया जाता है. दादा ने मैच के बाद भारतीय टीम के रवैये को लेकर एक महत्‍वपूर्ण बात का खुलासा किया है.Also Read - BCCI ने किया बैकअप खिलाड़ियों के नाम का ऐलान; इंग्लैंड रवाना होंगे पृथ्वी शॉ और सूर्यकुमार यादव

सौरव गांगुली (Sourav Ganguly)  ने कहा है कि ऐतिहिासिक जीत के बाद टीम आवेश में आ गई थी. भारत ने 13 जुलाई 2002 को गांगुली की कप्तानी में इंग्लैंड द्वारा रखे गए 326 रनों के लक्ष्य को सफलतापूर्वक हासिल किया था और जीत दर्ज की थी. Also Read - IND vs SL- Rahul Chahar भारत के लिए मैच विनर साबित होंगे, उनका कॉन्फिडेंस लाजवाब: Yuzvendra Chahal

इस मैच में मोहम्मद कैफ (Mohammad Kaif) ने नाबाज 87 और युवराज सिंह (Yuvraj Singh)  ने 69 रनों की पारी खेली थी. दोनों ने अहम समय पर बेहतरीन साझेदारी कर टीम को जीत दिलाई थी. Also Read - Highlights, India vs Sri Lanka, 1st T20I: भुवी-चाहर की धांसू गेंदबाजी से जीता भारत, सीरीज में 1-0 से बढ़त

बीसीसीआई के मौजूदा अध्यक्ष ने टेस्ट टीम के सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) के साथ बात करते हुए कहा, “वो शानदार पल था. हम आपे से बाहर हो गए थ, लेकिन यही खेल है. जब आप इस तरह के मैच जीतते हो तो आप ज्यादा जश्न मनाते हो. वो महान मैचों में से एक है जिनका मैं हिस्सा रहा.”

गांगुली (Sourav Ganguly) से जब 2003 विश्व कप के फाइनल को लेकर पूछा गया तो उन्होंने कहा, “दोनों मैचों की अपनी-अपनी जगह है. विश्व कप फाइनल का भी अलग स्थान है. हमें ऑस्ट्रेलिया ने बुरी तरह से हरा दिया था. वो इस पीढ़ी की सर्वश्रेष्ठ ठीम थी.”

“नेटवेस्ट का अपना अलग स्थान है. आप इंग्लैंड में शनिवार को लॉर्ड्स में मैच जीतते हो. खचाखच भरे स्टेडियम में जीतना शानदार एहसास था. विश्व कप 2019 फाइनल वहां हुआ था और मैं वहां कॉमेंट्री कर रहा था. वो अविश्वस्नीय था.”