ऑस्ट्रेलिया दौरे पर भारतीय सीमित ओवर फॉर्मेट टीम के उप कप्तान केएल राहुल (KL Rahul) ने खराब दौर से गुजर रहे तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) का समर्थन किया है।Also Read - IPL की असली चोकर्स है RCB, 3 फाइनल- 8 प्लेऑफ, फिर भी नहीं जीता कोई खिताब

टीम इंडिया के गेंदबाजी अटैक के सबसे अहम गेंदबाज बुमराह ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले दो वनडे मैचों में बुमराह अपनी काबिलियत के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर पाए हैं। पहले वनडे मैच में उन्होंने 73 रन देकर मात्र एक विकेट लिया था, वहीं दूसरे मैच में उन्होंने 10 ओवर के स्पेल में 79 रन देकर एक सफलता हासिल की थी। Also Read - IPL Qualifier 2 RR vs RCB Highlights: जोस बटलर का ताबड़तोड़ शतक, रॉयल अंदाज में राजस्थान को दिलाई फाइनल में एंट्री, अब गुजरात से खिताबी भिड़ंत

दूसरे वनडे में हारकर सीरीज गंवाने के बाद राहुल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा, “देखिए, हम सभी को पता है जसप्रीत काफी आक्रामक है और वो मैदान पर बेहद प्रतिद्वंद्वी है और उसे खुद से काफी ज्यादा उम्मीद हैं। न्यूजीलैंड का दौरा काफी पहले था। मुझे यकीन है कि उसने अपने लिए पैमाना काफी ऊंचा रखा है……वो इस टीम के लिए काफी मायने रखता है और हम सभी उसकी अहमियत जानते हैं।” Also Read - राजस्थान के खिलाफ RCB की इस तिकड़ी पर फैंस की निगाहें, खुद आकाश चोपड़ा ने कही ये बात

उन्होंने कहा, “केवल समय की बात है जब उसके जैसा चैंपियन खिलाड़ी वापसी करे और हमारे लिए विकेट ले। आपको ये भी समझना होगा कि न्यूजीलैंड और ऑसट्रेलिया, यहां विकेट बल्लेबाजी के लिए अच्छे होते हैं। आप देखेंगे कि शीर्ष गेंदबाजों को विकेट नहीं मिलेंगे, इसलिए ये स्वीकार है।”

राहुल ने माना कि विपक्षी टीम ने उनसे बेहतर क्रिकेट खेला और इसी कारण वो सीरीज में 2-0 की अजेय बढ़त हासिल कर सके हैं। हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि टीम के अंदर का माहौल अब भी सकारात्म है।

उन्होंने कहा, “कैंप का मूड अब भी काफी सकारात्मक है। कभी कभार एक टीम के तौर पर आपको ये मानना पड़ता है कि विपक्षी टीम ने बेहतर क्रिकेट खेली। ये उनके घरेलू मैदान है।”

राहुल ने आगे कहा, “हमने काफी लंबे समय के बाद 50 ओवर का क्रिकेट खेला है इसी वजह से अभी लंबा रास्ता तय करना है लेकिन हम कई चीजें ठीक कर रहे हैं। इन पिचों पर बेहतर गेंदबाजी करना सीखने की जरूरत है। वो सीखने की बात है। इसलिए हमें अपने कौशल और योजना को लागू करने की क्षमता को बेहतर करने की जरूरत है और ये पता लगाने की जरूरत है कि हम ऐसे विकेटों पर क्या कर सकते हैं।”