सेंट जोन्स: इंग्लैंड के रिचर्ड पायबस को वेस्टइंडीज का कोच नियुक्त किए जाने के विरोध के बीच क्रिकेट बोर्ड के शीर्ष अधिकारियों ने कहा कि वे अपने फैसले पर कायम हैं. वेस्‍टइंडीज के पूर्व कप्‍तान डैरेन सैमी और बोर्ड के कुछ डायरेक्‍टर्स ने पायबस की नियुक्ति का विरोध किया है.

पायबस 2013 से 2016 तक वेस्टइंडीज टीम के निदेशक के तौर पर काम कर चुके हैं और वह आगामी इंग्लैड दौरे, वर्ल्‍ड कप और जुलाई-अगस्त में होने वाले भारत दौरे के लिए टीम के कोच नियुक्त किए गए हैं.

इंग्‍लैंड लायन्‍स के खिलाफ वनडे मैच में इंडिया ए की कप्‍तानी करेंगे रहाणे, ऋषभ पंत करेंगे न्‍यूजीलैंड की ‘प्रैक्टिस’

क्रिकेट वेस्टइंडीज (सीडब्ल्यूआई) ने एक बयान जारी कर कहा, ‘‘बोर्ड के निदेशकों की बैठक के बाद इस साल व्यस्त क्रिकेट सीजन को ध्‍यान में हुए टीम को मजबूत नेतृत्व सुनिश्चित करने के लिए पायबस की नियुक्ति की गई. उनके समर्थन में बोर्ड के दो-तिहाई से अधिक निदेशक थे.’’

BCCI के कार्यकारी अध्‍यक्ष की अपील, जांच होने तक पांड्या-राहुल को मिले खेलने की अनुमति

पायबस इससे पहले थोड़े समय के लिए पाकिस्तान और बांग्लादेश के भी कोच रह चुके हैं. वेस्टइंडीज के पूर्व कप्तान डेरेन सैमी ने आरोप लगाया है कि 2016 के भारत दौरे पर पायबस के कारण ही खिलाड़ियों को हड़ताल पर जाना पड़ा था. वेस्टइंडीज की टीम ब्रिजटाउन में 23 जनवरी से इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज का आगाज करेगी.