INDvsWI: विश्व टेस्ट चैंपियनशिप मुकाबले में भारत और वेस्टइंडीज के बीच पहला टेस्ट मैच सर विवियन रिचर्ड्स स्टेडियम में खेला जा रहा है. मैच के तीसरे दिन तक भारत ने भले ही विंडीज पर 260 रनों की बढ़त बना ली हो, मगर रिकॉर्ड के पन्नों में विंडीज बल्लेबाज मिगुएल कमिंस का नाम कल जुड़ गया. कमिंस ने 95 मिनट के अंदर 45 गेंदों का सामना किया और बिना खाता खोले क्रीज पर डटे रहे. टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में बिना खाता खोले ये दूसरी सबसे बड़ी पारी है. विंडीज के निचले क्रम के बल्लेबाज कमिंस ने कप्तान जेसन होल्डर के साथ आखिरी विकेट के लिए 41 रनों की साझेदारी की लेकिन इस दौरान एक रन का भी सहयोग नहीं कर पाएं. हालांकि, इस रिकॉर्ड की सूची में शीर्ष स्थान पर न्यूजीलैंड के ज्यॉफ एलट के नाम है, जो 1999 में ऑकलैंड टेस्ट में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 101 मिनट की बैटिंग के बावजूद बिना खाता खोले आउट हुए थे.

ऐसी पारी खेल कर कमिंस विंडीज क्रिकेट के लिए टेस्ट मैचों में सबसे ज्यादा गेंद खेल कर एक भी रन न बनाने वाले खिलाड़ियों की सूची में सबसे पहले स्थान पर आ गए हैं. इससे पहले वेस्ट इंडीज के कीथ आर्थरटन ने साल 1995 में इंग्लैंड के खिलाफ लॉर्ड्स के मैदान में 40 गेंद खेल कर शून्य रन बनाए थे. अगर बात वर्ल्ड रिकॉर्ड की करें तो इस सूची में ज्यॉफ एलट के बाद जेम्‍स एंडरसन का नाम दुसरे नंबर पर आता है. एंडरसन श्रीलंका के खिलाफ 55 गेंद खेल कर अपना खाता नहीं खोल पाए थे.

कप्तान विराट कोहली के नाबाद 51 रन और उपकप्तान अजिंक्य रहाणे के नाबाद 53 रनों की मदद से भारत तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक 260 रनों की बढ़त हासिल कर चुका है. कप्तान कोहली ने अब तक 111 गेंदों में दो चौकें जड़े हैं वहीं रहाणे ने 140 गेंदों में तीन चौकें लगाएं हैं. विंडीज खेमे के सबसे आक्रमक गेंदबाज केमार रोच की गेंद पर 17 के स्कोर पर रहाणे को जीवन दान मिला था और उसके बाद भारतीय उपकप्तान ने इस मौके का इस्तेमाल कर अपना 18वां अर्धशतक लगाया. कोहली का ये 21वां अर्धशतक है. इस जोड़ी के बीच चौथे विकेट के लिए अब तक 104 रनों की साझेदारी हो चुकी है.