विश्वकप के वक्त से ही टीम इंडिया के दिग्गज खिलाड़ी महेंद्र सिंह धोनी के संन्यास को लेकर कयास लगाए जा रहे हैं. वर्ल्डकप के दौरान ही ऐसी रिपोर्ट आई थी कि धोनी इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट के बाद संन्यास ले लेंगे. 2011 में वर्ल्डकप जीतने वाली टीम के कप्तान रहे धोनी अब 38 साल के हो गए हैं. विश्वकप के कुछ मैचों में उनके प्रदर्शन और स्पिन गेंदबाजी के खिलाफ उनके बल्ले की खामोशी के कारण उनकी काफी आलोचना भी हुई. हालांकि वर्ल्डकप के आठ मैचों में उन्होंने 273 रन बनाए जो मिडिल ऑर्डर में किसी भी भारतीय बल्लेबाज द्वारा बनाए गए रन की तुलना में अधिक थे. ऐसी रिपोर्ट आ रही है कि धोनी के रिटायर्मेंट की योजना पर काम हो रहा है. वह वेस्टइंडीज दौरे पर टीम का हिस्सा नहीं होंगे.

धोनी की विदाई की तैयारी! नहीं जाएंगे वेस्टइंडीज, बनाया जा रहा ये फॉर्मूला

इस बीच यह भी कहा जा रहा है कि धोनी के माता-पिता भी चाहते हैं कि वे क्रिकेट छोड़ दें और उनके साथ रांची में रहें. टीवी चैनल टाइम्सनाउ की वेबसाइट के मुताबिक धोनी के बचपन के कोच केशव बनर्जी ने बताया कि धोनी के माता पिता उनकी रिटायर्मेंट चाहते हैं. टाइम्सनाउ से बातचीत में बनर्जी ने कहा कि वह संडे को धोनी के घर गए थे. उन्होंने उनके माता पिता से बात की. उनका कहना है कि अब धोनी को क्रिकेट से संन्यास ले लेना चाहिए. मैंने उनसे कहा कि उन्हें (धोनी) एक और साल तक खेलना चाहिए. यह अच्छा होता कि वह टी-20 वर्ल्डकप के बाद रिटायर हो जाते. इस पर उन्होंने ऐतराज जताते हुए कहा कि नहीं, उसके इतने बड़े घर का कौन देखभाल करेगा. इस पर मैंने कहा कि इतने दिनों से आपलोग उनके घर का देखभाल कर रहे हैं और एक साल कर लीजिए.

गौरतलब है कि टीम इंडिया के वेस्टइंडीज दौरे के लिए शुक्रवार को चयन समिति की बैठक होगी. माना जा रहा है कि धोनी ने इस दौरे पर नहीं जाने का फैसला किया है. ऐसी भी रिपोर्ट है कि धोनी ने अभी तक अपनी भविष्य की योजना के बारे में टीम प्रबंधन या चयनकर्ताओं को कोई जानकारी नहीं दी है.