भारतीय क्रिकेट टीम के चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव (Kuldeep Yadav) इस समय इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League 2020) की तैयारियों में जुटे हुए हैं.  कुलदीप आईपीएल में कोलकाता नाइटराइडर्स (Koklkata Knight Riders) की ओर से खेलेंगे.  आईपीएल के 13वें सीजन का आयोजन संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में 19 सितंबर से 10  नवंबर तक होगा. Also Read - सुशांत सिंह राजपूत की इस बात से बहुत चिढ़ जाते थे धोनी, बायोपिक रिलीज़ के बाद परेशान हो गए थे

कुलदीप वनडे में हैट्रिक लेने वाले दूसरे भारतीय गेंदबाज हैं. उनसे पहले पूर्व विश्व कप विजेता कप्तान कपिल देव (Kapil Dev) ने 1991 में वनडे में हैट्रिक (Hat-Trick) ली थी जबकि कुलदीप ने सितंबर 2017 में हैट्रिक लेने का कारनामा किया था.  कुलदीप ने सितंबर 2017 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले गए दूसरे वनडे मैच में लगातार तीन गेंदों पर मैथ्यू वेड (Mathew Wade), एश्टन एगर (Ashton Agr) और पैट कमिंस (Pat Cummins) को आउट करके वनडे में अपनी हैट्रिक पूरी कर भारत की जीत सुनिश्चित की थी. Also Read - Hathras Gang Rape: हाथरस गैंग रेप पर विराट कोहली ने भी दी प्रतिक्रिया, बोले- ये तो...

‘…तब मैंने विराट भाई से ये बात पूछी’ Also Read - मुंबई के खिलाफ Super Over में मिली जीत के बाद कप्तान विराट कोहली ने RCB की फील्डिंग को लेकर दिया बड़ा बयान

हैट्रिक को याद करते हुए कुलदीप ने आईपीएल टीम की वेबसाइट पर कहा, ‘मैंने विराट (Virat Kohli) भाई से बात की और उनसे पूछा कि क्या मैं दूसरे छोर से गेंदबाजी कर सकता हूं. उन्होंने मुझसे कहा कि एक बार चहल का स्पेल खत्म हो जाए तो मैं उस छोर से गेंदबाजी कर सकता हूं.  मैंने बहुत अच्छी लय पकड़ ली और स्पॉट में गेंदबाजी करना शुरू किया. ‘

भारत के लिए अब तक 60 वनडे मैचों में 104 विकेट ले चुके कुलदीप ने कहा है कि हैट्रिक लेने के लिए पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने उन्हें गेंद को स्टंप टू स्टंप रखने को कहा था.

उन्होंने कहा,  ‘मैंने पहली ही गेंद पर मैथ्यू वेड का विकेट निकाल लिया और फिर अगली ही गेंद पर एश्टन एगर को पवेलियन चलता किया. तीसरी गेंद के लिए मैंने माही भाई (धोनी) से पूछा कि कैसी गेंदबाजी करनी है.  जब आपके पास गेंदबाजी में काफी विविधताएं होती है तो आप दुविधा में होते हैं कि कौनी गेंदबाजी किया जाए. उन्होंने मुझे सिर्फ वही करने दिया जो मुझे सही लगा, लेकिन साथ ही यह भी सुझाव दिया कि मैं स्टंप पर गेंद को रखूं.’

‘किस्मत से मैंने अच्छी गेंद की और गेंद ने बल्ले का किनारा ले लिया’

कुलदीप ने आगे कहा, ‘ हैट्रिक वाली गेंद पर मैंने स्लिप और गली में फिल्डर खड़े किए थे.  किस्मत से मैंने अच्छी गेंद की और गेंद ने बल्ले का किनारा ले लिया और फिर मैंने ईडन गार्डन पर हैट्रिक लेने की उपलब्धि हासिल की.  यह मेरी जिंदगी का सबसे बड़ा पल था.’

कुलदीप के नाम वनडे में दो बार हैट्रिक लेने का रिकॉर्ड है.  उन्होंने दिसंबर 2019 में भी वेस्टइंडीज के खिलाफ खेले गए वनडे मैच में हैट्रिक ली थी.  वह वनडे में दो बार हैट्रिक लेने वाले पहले भारतीय गेंदबाज हैं.