Ajinkya-Rahane-and-Virat-Kohli-of-India-celebrate-after-hitting-Mitchell-Johnson-of-Australia-for-a-boundary

भारतीय बल्लेबाज़ों के लिए हमेशा ही शुभ समझे जाने वाले सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर चौथे टेस्ट मैच पर टीम इंडिया के बल्लेबाज़ों पर अपने वरिष्ठ खिलाड़ियों से बेहतर प्रदर्शन करने का दबाव होगा। इस मैदान पर भारतीय बल्लेबाजों ने साझेदारियों के दो रिकार्ड बनाए हैं। भारतीय बल्लेबाजों के नाम इस मैदान पर दूसरे और चौथे विकेट की साझेदारी का रिकार्ड दर्ज है। दूसरे विकेट के लिए 1986 में सुनील गावस्कर और मोहिंदर अमरनाथ ने 224 रन जोड़े थे। इसके अलावा सचिन तेंदुलकर और वीवीएस लक्ष्मण ने 2004 में चौथे विकेट के लिए 353 रन जोड़े थे।

इसके अलावा विराट कोहली पर भी महान बल्लेबाज़ राहुल द्रविड़ का रिकार्ड तोड़ने का दबाव होगा। सीरीज़ में अबतक ३ शतक लगाने वाले विराट को ऑस्ट्रेलिया में एक सीरीज़ के दौरान सबसे ज़्यादा रन बनाने वाले भारतीय बल्लेबाज़ का रिकार्ड तोड़ने के लिए १२१ रनों की ज़रूरत हैं। यह रिकार्ड इस वक्त राहुल द्रविड़ के पास हैं, जिन्होंने साल २००४ के दौरान ६१९ रन ठोके थे।

आस्ट्रेलिया के डब्ल्यू ब्रैडश्ले और सी. हिल के नाम भी इस विकेट के लिए 224 रनों का रिकार्ड है। गावस्कर (172) और अमरनाथ (138) ने जनवरी 1986 में 191 रनों के कुल योग पर के. श्रीकांत (116) का विकेट गिरने के बाद भारतीय स्कोर को 415 रनों तक पहुंचाया था। भारत ने उस मैच में चार विकेट पर 600 (घोषित) रन बनाए थे।

इसके बाद शिवलाल यादव (99-5) और रवि शास्त्री (101-4) की मदद से भारत ने आस्ट्रेलिया की पहली पारी 396 रनों पर समेट दी थी। आस्ट्रेलिया को फॉलोऑन खेलना पड़ा था। वह मैच बराबरी पर छूटा था।

इसके बाद दो जनवरी 2004 को शुरू हुए चौथे टेस्ट में सचिन (241) और लक्ष्मण (178) ने 194 रनों पर तीन विकेट गिरने के बाद भारतीय पारी को 547 रनों तक पहुंचाया था। सचिन ने इस मैच में अपना सर्वोच्च टेस्ट स्कोर खड़ा किया था। भारत ने सात विकेट पर 705 रन बनाकर पारी घोषित कर दी थी।

इस मैदान पर सचिन ने पांच मैचों की नौ पारियों में चार बार नाबाद रहते हुए 157.00 के औसत से 785 रन बनाए हैं। सचिन के नाम तीन शतक और दो अर्धशतक हैं। वह इस मैदान पर भारत के झंडाबरदार हैं। लक्ष्मण ने भी इस मैदान पर तीन शतक लगाए हैं।