दुबई. जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकवादी हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव चरम पर है. भारत सरकार जहां पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अलग-थलग करने के कूटनीतिक प्रयास में जुटी है, वहीं देशवासी भी चाह रहे हैं कि दुश्मन देश के साथ किसी भी तरह का संबंध न रखा जाए. जाहिर है ऐसे में दोनों देशों के बीच खेले जाने वाले सबसे महत्वपूर्ण खेल, क्रिकेट को लेकर भी चर्चाएं हो रही हैं. कई पूर्व क्रिकेटर और संगठन मांग कर रहे हैं कि इसी साल होने वाले क्रिकेट विश्वकप (World Cup 2019) में भारत को पाकिस्तान के साथ मैच नहीं खेलना चाहिए. पूर्व क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्मण भी इस मांग से सहमत दिखते हैं. वे भी पाकिस्तान से क्रिकेट खेलने के पक्ष में नहीं दिख रहे हैं. दुबई में जी मीडिया के अंतरराष्ट्रीय टीवी चैनल WION द्वारा आयोजित WION Global Summit में लक्ष्मण ने कहा, ‘यह वक्त सेना के साथ खड़े होने का है. मैं इस वक्त क्रिकेट के बारे में सोचना भी नहीं चाहता.’

पूर्व सेना प्रमुख बोले- आदर्शवादी एजेंडा बहुत हुआ, पाकिस्तान को सबक सिखाना जरूरी

पूर्व टेस्ट क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्मण ने बुधवार को Zee Media के अंतरराष्‍ट्रीय चैनल WION के ग्लोबल समिट में कई विषयों पर बात की. उन्होंने क्रिकेट से लेकर आतंकवाद तक हर विषय पर खुलकर अपने विचार रखे. ‘पुलवामा में आतंकी हमले के बाद भारत-पाकिस्तान का तनाव चरम पर है. ऐसे में भारत को वर्ल्ड कप में पाकिस्तान से नहीं खेलना चाहिए’, इस सवाल का भी लक्ष्मण ने जवाब दिया. लक्ष्मण ने कहा, ‘अभी मेरे दिमाग में जो चीजें चल रही हैं, उसमें क्रिकेट सबसे आखिरी चीज है.’ उन्होंने कहा, ‘अभी देश ने बड़ा हमला झेला है. हर भारतीय सदमे और वक्त गुस्से में है. हमने अपने सुरक्षाकर्मियों की जान गंवाए हैं, जो यह सुनिश्चित करते हैं कि हम अपने देश में सुरक्षित रहें. ऐसे में क्रिकेट आखिरी चीज है, जिसके बारे में लोग सोच रहे हैं. अभी यह जरूरी है कि हम अपने जवानों के साथ खड़े हों. हम शहीदों के परिवारों के साथ खड़े हों. एक देश के तौर पर साथ रहें. आतंक के खिलाफ खड़े हों. मेरे ख्याल से अभी सब लोग यही सोच रहे हैं और मैं भी ऐसा ही सोच रहा हूं.‘

कार्यक्रम के दौरान लक्ष्मण ने भारत-पाक के बीच तनाव को लेकर भी बातें की. जब आप खेलते थे, उस वक्त क्या पाकिस्तान से खेलते हुए अतिरिक्त दबाव रहता था? इस सवाल के जवाब में वीवीएस लक्ष्मण ने कहा, ‘हां, यह सही है. भारत और पाकिस्तान के बीच तनावपूर्ण संबंधों के चलते क्रिकेटरों से ज्यादा उम्मीद रहती है. यह सही है कि इस कारण अन्य मैचों के मुकाबले ज्यादा उम्मीद की जाती है. लेकिन प्रोफेशनल खिलाड़ी होने के नाते हम यह जानते हैं कि आप अच्छा प्रदर्शन तभी कर पाते हैं, जब सिर्फ खेल पर ध्यान देते हैं. इसलिए हम लोग भी मैदान के बाहर के तनाव को भुलाकर खेल पर ध्यान देते थे.’