छह बार की विश्व चैंपियन एमसी मैरीकॉम (MC Mary Kom) अपने अनुभव की बदौलत गुरुवार से रूस के उलान उदे शहर में शुरू हो रही विश्व महिला मुक्केबाजी चैंपियनशिप (AIBA World Women’s Boxing Championship) में फिर पदक की दावेदार होंगी.भारत को युवा खिलाड़ियों से भी पदक की उम्मीद होगी.

विश्व एथलेटिक्स चैम्पियनशिप : भालाफेंक फाइनल में 8वें पायदान पर रही अनु रानी

मणिपुर की 36 साल की मैरीकॉम (Mary Kom) का करियर शानदार रहा है लेकिन वह 51 किग्रा वर्ग में विश्व खिताब नहीं जीत पाई हैं और वह इस खिताब को भी अपनी झोली में डालना चाहेंगी.

मैरीकॉम ने 51 किग्रा वर्ग में कड़ी प्रतिस्पर्धा के बावजूद ओलंपिक कांस्य पदक और एशियाई खेलों का स्वर्ण पदक जीता है.

सरिता देवी पर रहेंगी सबकी नजर

पूर्व चैंपियन एल सरिता देवी ( L Sarita Devi) (60 किग्रा) पर भी सभी की नजरें होंगी. उन्होंने ट्रायल में शानदार प्रदर्शन करते हुए पिछली बार की कांस्य पदक विजेता और अपने से कहीं अधिक युवा सिमरनजीत कौर (Simranjit Kaur) को हराया.

एशियाई चैंपियनशिप की 8 बार की पदक विजेता साथ ही अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी संघ (एआईबीए) के पहले एथलीट आयोग की सदस्य बनने की दौड़ में भी शामिल हैं. इसके लिए मतदान इस प्रतिष्ठित प्रतियोगिता के दौरान ही होगा. उनके आयोग में जगह बनाने की पूरी उम्मीद है क्योंकि एशिया से कोई और नामांकन नहीं है.

नीरज और जमुना बोरो सहित 5 मुक्केबाज करेंगे डेब्यू

इंडिया ओपन की स्वर्ण पदक विजेता नीरज (Neeraj) (57 किग्रा) और जमुना बोरो (54 किग्रा) उन पांच मुक्केबाजों में शामिल हैं जो इस प्रतियोगिता में पदार्पण करेंगी और उलटफेर करने में सक्षम हैं.

इसके अलावा 75 किग्रा वर्ग में पूर्व एशियाई चैंपियन स्वीटी बूरा पर नजरें रहेंगी. उन्होंने 2014 में इस प्रतियोगिता में रजत पदक जीता था.

पिछली बार भारतीय टीम ने 4 पदक जीते थे

राष्ट्रीय कोच मोहम्मद अली कमर ने बताया, ‘टीम में अच्छा मिश्रण है. पिछली बार हमने चार पदक जीते थे, देखते हैं पदार्पण करने वाली मुक्केबाज इस बार चुनौती को लेकर कैसी प्रतिक्रिया देती हैं.’

टॉप 25 में पहुंचे पी कश्यप; छठें नंबर पर खिसकी पीवी सिंधू

उन्होंने कहा, ‘यहां आने से पहले इटली में हमारा ट्रेनिंग सत्र अच्छा रहा जहां हमें चीन की मुक्केबाजों के साथ ट्रेनिंग का मौका मिला जो अधिकांश समय नहीं होता. वे बहुत कम यात्रा करती हैं और महिला मुक्केबाजी में वे सबसे बड़ी दावेदार हैं.’

मैरीकॉम के पसंदीदा रहे 48 किग्रा वर्ग में इस बार मंजू रानी चुनौती पेश करेंगी. भारत ने इस टूर्नामेंट में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 2006 में किया था जब इस प्रतियोगिता की मेजबानी करते हुए उसने मैरीकॉम और सरिता के स्वर्ण पदक सहित 8 पदक जीते थे.

भारतीय महिला मुक्केबाजी टीम इस प्रकार है:

मंजू रानी (48 किग्रा), एमसी मैरीकॉम (51 किग्रा), जमुना बोरो (54 किग्रा), नीरज (57 किग्रा), सरिता देवी (60 किग्रा), मंजू बोमबोरिया (64 किग्रा), लवलीना बोरगोहेन (69 किग्रा), स्वीटी बूरा (75 किग्रा), नंदिनी (81 किग्रा) और कविता चहल (81 किग्रा से अधिक).