भारत की मिश्रित रिले टीम ने अगले साल होने वाले टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई कर लिया है.

ब्यूनस आयर्स चैलेंजर: फेडरर का सामना कर चुके सुमित नागल खिताब से एक जीत दूर

विश्व एथलेटिक्स चैम्पियनशिप के दूसरे दिन भारत ने चार गुणा 400 मिश्रित रिले स्पर्धा के फाइनल में जगह बनाने के साथ 2020 टोक्यो ओलंपिक के लिए अपना स्थान पक्का किया.

भारत के मोहम्मद अनस याहिया, वेलुवा कारथ विस्मया, जिसना मैथ्यू और नोग निर्मल टॉम की चौकड़ी ने हीट-2 में तीसरे स्थान पर रहते हुए फाइनल के लिए क्वालीफाई किया.


विश्व चैंपियनशिप के रिले रेस के फाइनलिस्ट (टॉप 8) में रहने वाली टीम ओलंपिक के लिए क्वालीफाई कर जाती है और इस तरह भारतीय मिक्स्ड रिले टीम ने फाइनल में तीस स्थान पर रहते हुए ओलंपिक के लिए क्वालीफाई कर इतिहास रच दिया.

भारतीय टीम ने तीन मिनट 16.14 सेकेंड का समय निकाला। हर हीट में से शीर्ष-3 टीम फाइनल में जगह बनाई है. यह भारतीय टीम का इस सीजन का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन भी है.

टी20 फॉर्मेट में चहल-कुलदीप को वापस लाएं विराट कोहली : सौरव गांगुली

मोहम्मद अनस ने भारत के लिए शुरुआत की लेकिन वह पीछे रह गए। हालांकि विस्मया ने दमदार दौड़ लगाते हुए भारत को रेस में बनाए रखा. इसके बाद मैथ्यू के हाथ में बागडोर आई. वह थोड़ी पीछे रह गईं लेकिन उनकी भरपाई निर्मल ने कर भारत को फाइनल में पहुंचाया.

हीट-2 में पोलैंड की टीम तीन मिनट 15.47 सेकेंड के साथ पहले स्थान पर रही। ब्राजील की टीम ने तीन मिनट 16.12 सेकेंड के साथ दूसरा स्थान हासिल किया.

इससे पहले हीट-1 में अमेरिका ने पहले स्थान पर रहते हुए फाइनल में जगह बनाई. अमेरिका की टीम ने साथ ही विश्व रिकार्ड भी स्थापित किया. अमेरिका ने हीट-1 में तीन मिनट 12.41 सेकेंड का समय निकाला.

जमैका ने दूसरे और बहरीन ने तीसरे स्थान पर रहते हुए फाइनल में जगह बनाई.

दोनों हीटों में इन छह टीमों के बाद जिन दो टीमों ने सबसे तेज समय निकाला वह भी फाइनल में पहुंचने में सफल रही हैं. हीट-1 में चौथे स्थान पर रहने वाली ग्रेट ब्रिटेन और हीट-1 में चौथे स्थान पर रहने वाली बेल्जियम भी फाइनल में जाने में सफल रही हैं.