कोपेनहेगेन: भारतीय तीरंदाज रजत चौहान ने गुरुवार को विश्व तीरंदाजी चैम्पियनशिप में व्यक्तिगत कंपाउंड स्पर्धा के फाइनल में प्रवेश कर लिया, जहां वह डेनमार्क के स्टीफेन हेनसेन से स्वर्ण पदक के लिए मुकाबला करेंगे। वहीं महिला वर्ग से लक्ष्मी रानी मांझी महिला रिकर्व स्पर्धा के कांस्य पदक के लिए मुकाबला करेंगी। यह भी पढ़े:टेस्ट में मुझे पर्याप्त मौके नहीं मिले : सुरेश रैना Also Read - ट्रायल्स में निखत जरीन से लड़ने को तैयार 6 बार की वर्ल्ड चैंपियन एमसी मैरीकॉम

Also Read - एमसी मैरीकॉम ने वर्ल्ड चैंपियनशिप में AIBA की टैक्निकल कमेटी के नियम पर उठाए सवाल

पूर्व सर्वोच्च विश्व वरीयता प्राप्त दीपिका कुमारी हालांकि तीसरे दौर में ही हारकर बाहर हो गईं। रजत ने क्वार्टर फाइनल मैच में कनाडा के केविन तातारिन को 146-143 से हराया। क्वार्टर फाइनल में मिली जीत से उत्साहित रजत ने सेमीफाइनल में कोलंबिया के कैमिलो आंद्रेस काडरेना को भी 143-138 के अंतर से हरा दिया। Also Read - विश्व चैंपियनशिप में सातवें स्थान पर रही भारत की 4x400 मीटर मिश्रित रिले टीम

लक्ष्मी रानी ने तीसरे दौर के मुकाबले में चीन की जियाशिन वू को 7-3 से हराया। पांच सेटों तक चले मैच में स्कोर 29-29, 27-26, 29-23, 27-28, 28-27 से लक्ष्मी के पक्ष में रहा। इसके बाद क्वार्टर फाइनल में लक्ष्मी रानी को मेक्सिको की अपनी प्रतिद्वंद्वी वालेंसिया एलेजांद्रा को हराने में कठिन संघर्ष करना पड़ा।

लक्ष्मी ने पांचवें सेट तक स्कोर 5-5 से बराबर रहने के बाद वालेंसिया को टाईब्रेकर में 9-8 से हराकर मैच 6-5 से जीत लिया। लक्ष्मी रानी का विजयी रथ आखिरकार सेमीफाइनल में चीनी ताइपे की शिह-चिया लिन ने रोक दिया। लिन ने लक्ष्मी रानी को 6-4 से हराया। लक्ष्मी 28-28, 26-26, 28-26, 27-27, 27-27 के स्कोर से लिन से हारीं। लक्ष्मी रानी अब कांस्य पदक के लिए दक्षिण कोरिया की मिसुन चोई से दो अगस्त को भिड़ेंगी।