नई दिल्ली: मौजूदा विश्व कप के लिए अनदेखी किए जाने के बाद भारतीय मध्यक्रम बल्लेबाज अंबाती रायुडू ने क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास लेने का फैसला किया. बीसीसीआई अधिकारी ने इसका खुलासा किया. आंध्र प्रदेश के इस 33 साल के खिलाड़ी को ब्रिटेन में चल रहे विश्व कप के लिए आधिकारिक स्टैंडबाई सूची में रखा गया था, लेकिन ऑल राउंडर विजय शंकर के चोटिल होने के बाद उसकी अनदेखी की गई. यह खिलाड़ी कभी टेस्ट टीम में जगह नहीं बना सका और विश्व कप से पहले वह सुर्खियों में बना हुआ था.

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने कुछ महीने पहले चौथे नंबर के लिए रायुडू के नाम की घोषणा की थी, लेकिन टूर्नामेंट के लिए चुनी गई अंतिम टीम में रायुडू की अनदेखी की गई और शंकर को चुना गया.

महेंद्र सिंह धोनी का विदाई मैच हो सकता है भारत का विश्व कप में अंतिम मुकाबला

इस खिलाड़ी ने अभी अधिकारिक घोषणा नहीं की है, लेकिन बीसीसीआई अधिकारी ने कहा कि उसने इस फैसले से बीसीसीआई को अवगत करा दिया है. अधिकारी ने कहा, उसने बोर्ड को बता दिया है. रायुडू ने भारत के लिए 55 वनडे खेलते हुए 47.05 के औसत से 1694 रन बनाए हैं.

मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने इस फैसले को सही करार दिया था. इसके बाद रायुडू ने इस बयान का मजाक उड़ाते हुए सोशल मीडिया पर ट्वीट किया, ” विश्व कप देखने के लिए थ्री डी चश्मे का आर्डर किया है.”

घरेलू सर्किट में साथी क्रिकेटरों के साथ कई बार और यहां तक मैच अधिकारियों के साथ झड़प के कारण रायुडू की छवि तुनकमिजाज खिलाड़ी की बन गई.