लंदन. विश्व कप के रोमांचक फाइनल में इंग्लैंड से हारने के बाद न्यूजीलैंड के क्रिकेट खिलाड़ी मायूस हैं. खासकर मैच के बाद सुपर-ओवर में आकर जिस तरह से न्यूजीलैंड को हार का सामना करना पड़ा, इससे ये खिलाड़ी ज्यादा दुखी हैं. शायद यही वजह है कि न्यूजीलैंड के हरफनमौला क्रिकेटर जिम्मी नीशम ने अपने दुख से परेशान होकर बच्चों को खिलाड़ी न बनने की नसीहत दे डाली है.

नीशम ने बच्चों को सलाह दी, ‘‘ खिलाड़ी मत बनना’. यह पहला विश्व कप फाइनल था जो सुपर ओवर तक खिंचा. सुपर ओवर में भी स्कोर बराबर रहने के बाद विजेता का फैसला दोनों टीमों द्वारा लगाए गए चौकों छक्कों के आधार पर हुआ. आखिरी गेंद पर जब दो रनों की जरूरत थी, उस समय मार्टिन गुप्टिल के रन आउट होने की वजह से न्यूजीलैंड के हाथों से वर्ल्ड कप की ट्रॉफी छूट गई.

सुपर ओवर में मार्टिन गुप्टिल के साथ मैदान पर उतरे जिम्मी नीशम ने ट्वीट किया, ‘‘बच्चों, खिलाड़ी मत बनना. बेकर बन जाना या कुछ और. हट्टे-कट्टे होकर 60 साल की उम्र में मर जाना.’’ उन्होंने लिखा, ‘‘यह दुखद है. शायद अगले दशक में कोई दिन ऐसा आएगा जब मैं इस आखिरी आधे घंटे के बारे में नहीं सोचूंगा. बधाई हो ईसीबी क्रिकेट.’’ उन्होंने कहा, ‘‘सभी प्रशंसकों को धन्यवाद. हम माफी चाहते हैं कि कप नहीं जीत सके.’’

आपको बता दें कि जिम्मी नीशम और मार्टिन गुप्टिल सुपर ओवर में न्यूजीलैंड को मैच जिताने के लिए मैदान पर उतरे थे. नीशम ने इंग्लैंड के युवा गेंदबाज जोफ्रा आर्चर की गेंदों पर एक चौका जमाया, साथ ही दो-तीन रन भी बटोरे. मगर आखिरी गेंद पर जब न्यूजीलैंड को दो रनों की जरूरत थी, तो दूसरा रन लेते समय गुप्टिल रन आउट हो गए. इससे पहले इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच खेला गया फाइनल मैच टाई हो गया था. न्यूजीलैंड ने इंग्लैंड को 242 रनों का लक्ष्य दिया, लेकिन इंग्लैंड की टीम सिर्फ 241 रन ही बना सकी. इसके बाद सुपर ओवर के जरिए मैच का फैसला किया गया.