मुम्बई, 23 मार्च। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने बुधवार को बांग्लादेश के तेज गेंदबाज पर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर गेंदबाजी से निलम्बन से जुड़े फैसले को बरकरार रखा है। तस्कीन और बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड के अनुरोध पर उनसे जुड़े मामले की सुनवाई के बाद जुडिशियल कमिश्नर ने यह फैसला सुनाया।

तस्कीन को धर्मशाला में नौ मार्च को नीदरलैंड्स के साथ हुए आईसीसी विश्व कप मुकाबले के दौरान संदिग्ध एक्शन के साथ गेंदबाजी करते हुए पाया गया था। तस्कीन ने 15 मार्च को चेन्नई में आईसीसी से मान्यता प्राप्त टेस्ट सेंटर में अपने एक्शन की स्वतंत्र पक्ष से जांच कराई थी। यह भी पढ़े-तस्कीन और अराफात के सस्पेंशन पर भड़के बांग्लादेशी प्रशंसक, बुमरा पर निकाली भड़ास

इस जांच में पता चला कि तस्कीन की कुछ आला गेंदों के दौरान उनकी कोहनी निर्धारित कोण से अधिक मुड़ती है। इसी आधार पर उनके एक्शन को अवैध करार दिया गया था। इसके बाद तत्काल प्रभाव से उन पर गेंदबाजी से रोक लगा दी गई थी। यह भी पढ़े-टी-20 विश्व कप के बाद शाहिद अफरीदी लेंगे संन्यास?

इसके बाद तस्कीन ने ज्यूडिशियल कमिश्नर से अपने एक्शन की फिर से जांच करने की गुहार लगाई थी। आईसीसी ने अपने बयान में कहा कि मंगलवार को माइकल बेलॉफ क्यूसी ने टेलीकांफ्रेंसिंग के जरिए इस मामले की सुनवाई की। यह सुनवाई कई घंटों तक चली। इस सुनवाई के दौरान तस्कीन ने अपनी ओर से कई दलीलें दीं।

ज्यूजिशियल कमिश्नर ने हालांकि तस्कीन की सारी दलीलों को नकार दिया और कहा कि उनका एक्शन अवैध है और वह इसमें सुधार के लिए कभी भी आईसीसी की मदद से सुधार कार्यक्रम में हिस्सा ले सकते हैं। इसके बाद वह आईसीसी के सामने अपने एक्शन की फिर से जांच के लिए आवेदन कर सकते हैं। यह जांच स्वतंत्र व्यक्ति द्वारा की जाएगी।