टोक्यो ओलंपिक में पदक की उम्मीद बनकर उभरे भारतीय स्टार पहलवान बजरंग पूनिया (Bajrang Poonia) ने साल 2020 की शुरुआत स्वर्ण पदक के साथ की है. बजरंग के साथ रवि दहिया (Ravi Dahiya) ने भी रोम रैंकिंग सीरीज टूर्नामेंट में धमाकेदार प्रदर्शन कर गोल्ड मेडल अपने नाम किया. Also Read - Individual Wrestling World Cup: 4 साल बाद रेसलिंग में वापसी करने वाले नरसिंह यादव की चुनौती क्वालीफिकेशन दौर में ही टूटी, रवि ने भी किया निराश

बेंगलुरू वनडे में काली पट्टी बांधकर उतरे टीम इंडिया के खिलाड़ी, जानिए क्या थी वजह Also Read - भारतीय पहलवानों पर कोरोना की मार, राहुल अवारे का टेस्ट भी आया पॉजिटिव, 5 रेसलर हो चुके हैं संक्रमित

बजरंग ने ओलिवर पर 4-3 से रोमांचक जीत दर्ज की Also Read - ओलंपिक दल में शामिल वर्ल्ड चैंपियनशिप के सिल्वर मेडलिस्ट दीपक पूनिया सहित 3 पहलवान हुए कोरोना संक्रमित

बजरंग ने 65 किग्रा फ्रीस्टाइल वर्ग के फाइनल में अमेरिका के जोर्डन माइकल ओलिवर के खिलाफ शानदार वापसी करते हुए 4-3 से जीत हासिल की.

रवि ने अब्दुलीयेव को 12-2 से पराजित किया

रवि अपने नियमित 57 किग्रा के बजाय 61 किग्रा वर्ग में भाग ले रहे हैं. उन्होंने शनिवार की रात फाइनल में कजाखस्तान के नुरबोलाट अब्दुलीयेव पर 12-2 से जीत हासिल कर स्वर्ण पदक अपने नाम किया.

सोनीपत के 23 साल के इस पहलवान ने मोलदोवा के एलेक्सांद्रू चिरतोआका और कजाखस्तान के नुरीस्लाम सानायेव पर शानदार जीत के बाद फाइनल दौर में प्रवेश किया था.

‘बजरंग पूनिया शानदार, तुम कड़े प्रतिद्वंद्वी हो’

भारत के टोक्यो ओलंपिक में पदक के प्रबल दावेदार 25 साल के बजरंग के खिलाफ मुकाबले में हारने के बाद ओलिवर ने ट्वीट करते हुए स्वीकार किया कि यह मेरी रात नहीं थी.

अमेरिकी पहलवान ने बजरंग की प्रतिस्पर्धी जज्बे की प्रशंसा की. उन्होंने ट्वीट किया, ‘यह मेरी रात नहीं थी. लेकिन मैं जहां पहुंचना चाहता हूं, उसके लिए मुझे काफी काम करने की जरूरत है. बजरंग पूनिया शानदार, तुम कड़े प्रतिद्वंद्वी हो.’

ओलंपिक ईयर 2020 में शूटर मनु भाकर, पहलवान बजरंग पूनिया और शटलर पीवी सिंधू के बीच कोहली पर भी रहेगी नजर

बजरंग को हालांकि पहले दौर में अमेरिका के जैन एलेन रदरफोर्ड के खिलाफ पसीना बहाना पड़ा था, लेकिन वह 5-4 से जीत हासिल करने में सफल रहे थे. क्वार्टरफाइनल में शीर्ष भारतीय पहलवान ने एक और अमेरिकी जोसफ क्रिस्टोफर मैक केना को 4-2 से और फिर सेमीफाइनल में यूक्रेन के वासिल शुपतार को 6-4 से शिकस्त दी थी.

जितेंदर और दीपक पूनिया का सफर खत्म

उधर, जितेंदर का 74 किग्रा में और विश्व चैम्पियनशिप के रजत पदकधारी दीपक पूनिया का 86 किग्रा में सफर समाप्त हो गया है. जितेंदर ने पहले दौर में यूक्रेन के डेनिस पावलोव को 10-1 से हराया था लेकिन वह क्वार्टरफाइनल में तुर्की के सोनेर देमिरतास से 0-4 से हार गए.

उन्हें रेपेचेज में खेलने का मौका मिला क्योंकि देमिरतास फाइनल में पहुंच गये थे. पर यह भारतीय इस मौके का फायदा नहीं उठा सका और कजाखस्तान के दानियार काईसानोव से 2-9 से पराजित हो गया. वहीं 86 किग्रा वर्ग में दीपक को शुरूआती दौर में पुअर्तो रिको के इथान एड्रियन रामो से 1-11 से शिकस्त का सामना करना पड़ा.

गौरतलब है कि शनिवार को महिला पहलवान विनेश फोगाट (Vinesh Phogat) ने अपने वजन वर्ग स्वर्ण पदक अपने नाम किया था. विनेश भी टोक्यो ओलंपिक में पदक की प्रबल दावेदार हैं.