बांग्लादेश के बीच होने वाले पहले डे-नाइट टेस्ट से पहले विकेटकीपर बल्लेबाज ऋद्धिमान साहा (Wriddhiman Saha) ने विपक्षी टीम को चुनौती देते हुए कहा कि गेंद का रंग जो भी भारतीय तेज गेंदबाजों के शानदार फॉर्म के सामने वो मायने नहीं रखेगा। साहा ने खासकर कि मोहम्मद शमी (Mohammed Shami) की गेंद से गति और रिवर्स स्विंग हासिल करने की काबिलियत की तारीफ की।Also Read - प्रैक्टिस मैच में उमेश यादव चमके, 5 साल बाद टीम में लौटे हसीब हमीद ने भी ठोका शतक

Also Read - Ishant Sharma के गोल्फ खेलने पर Yuvraj Singh ने यूं लिए मजे, बोले- लंबू जी...

कोलकाता टेस्ट से पहले साहा ने कहा, ‘‘वो (शमी, इशांत शर्मा और उमेश यादव) जिस तरह की फार्म में हैं उसे देखते हुए गुलाबी गेंद मायने नहीं रखेगी। खासकर शमी, वो किसी भी विकेट पर खतरनाक हो सकता है। उसके पास गति है और वो रिवर्स स्विंग हासिल कर सकता है।’’ Also Read - इंग्‍लैंड की टीम में फैला कोरोना, छुट्टी मना रहे भारतीय दल को वैक्‍सीन की दूसरी डोज लगवाने का निर्देश

साहा ने कहा कि उन्होंने अब तक नहीं देखा है कि गुलाबी गेंद से कितनी मूवमेंट मिल रही है। उन्होंने कहा, ‘‘हमने अब तक गुलाबी गेंद की मूवमेंट नहीं देखी है। लेकिन हमारे तेज गेंदबाजों की मौजूदा फार्म को देखते हुए गेंद का रंग मायने नहीं रखता।’’

Video: लेग स्पिनर ने डाली घातक बाउंसर, चारो खाने चित्त हुए आंद्रे रसेल

बंगाल के शमी और साहा सहित भारत के कुछ खिलाड़ियों को घरेलू क्रिकेट में गुलाबी गेंद से खेलने का अनुभव है लेकिन इस विकेटकीपर ने कहा कि वो कूकाबूरा गेंद थी। साहा ने कहा, ‘‘सिर्फ गेंद के रंग में ही बदलाव नहीं है। इसे अलग तरह से तैयार किया जाता है। समय में भी बदलाव है और शाम के समय गेंद को देखने में दिक्कत हो सकती है। इससे तेज गेंदबाजों को मदद मिल सकती है लेकिन बल्लेबाजों के लिए चुनौतीपूर्ण होगा।’’