भारत और न्यूजीलैंड के बीच पहली बार आयोजित हो रहे वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप (World Test Championship) के फाइनल मैच की शनिवार को शुरुआत हो गई है. मैच का पहला दिन पूरी तरह बारिश के नाम रहा था और तब मैच में टॉस तक नहीं हो पाया था. मैच के दूसरे दिन टॉस हुआ और खेल की शुरुआत हो गई. इस मैच में न्यूजीलैंड ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया है.Also Read - बेहतर खिलाड़ी बनने के लिए रोहित-कोहली से सीख लेने की कोशिश करते हैं रिषभ पंत

इस मैच के लिए भारतीय टीम ने जहां अपने तीन तेज गेंदबाज और दो स्पिनरों को मौका दिया है, वहीं न्यूजीलैंड की टीम ने अपनी टीम में खालिस 5 तेज गेंदबाजों को जगह दी है. उसके पास एजाज पटेल को खिलाने का मौका था लेकिन उसने ऐसा नहीं किया और अपने बेहतरीन तेज गेंदबाजों को मौका दिया है. Also Read - Sri Lanka vs India, 2nd T20I: Shikhar Dhawan बने नंबर-1, इस मामले में Virat Kohli को पछाड़ा

Also Read - IND vs ENG: डरहम की मुख्य पिच पर टीम इंडिया ने की प्रैक्टिस, Rishabh Pant ने भी चलाया बल्ला

सवाल है कि जब दोनों टीमें एक ही पिच पर समान परिस्थितियों में ह मैच खेल रही हैं, तो दोनों टीमों की बॉलिंग कॉम्बिनेशनि को लेकर सोच में यह अंतर क्यों हैं. मैच में कॉमेंट्री कर रहे जानकारों की मानें तो दोनों टीमों ने पिच और परिस्थिति से ज्यादा अपने 11 बेहतरीन खिलाड़ियों को इस मैच में खेलने का मौका दिया है.

दोनों टीमों की सोच है कि उनके ये 11 खिलाड़ी किसी भी परिस्थिति में अपने हुनर के दम पर मैच का रुख मोड़ने में सक्षम हैं. इसलिए उन्हें यह मौका दिया गया है.

भारतीय टीम के बॉलिंग विभाग की बात करें, तो इसमें इशांत शर्मा, मोहम्मद शमी, जसप्रीत बुमराह, रविचंद्रन अश्विन और रविंद्र जडेजा को मौका दिया गया है, वहीं कीवी टीम ने काइल जैमीसन, नील वैग्नर, टिम साउदी, ट्रेंट बोल्ट और ऑलराउंडर खिलाड़ी के रूप में कॉलिन डी ग्रैंडहोम को मौका दिया है.

भारत (प्लेइंग XI): रोहित शर्मा, शुबमन गिल, चेतेश्वर पुजारा, विराट कोहली (C), अजिंक्य रहाणे, ऋषभ पंत (WK), रविंद्र जडेजा, रविचंद्रन अश्विन, इशांत शर्मा, मोहम्मद शमी, जसप्रीत बुमराह

न्यूजीलैंड (प्लेइंग XI): टॉम लाथम, डेवोन कॉनवे, केन विलियमसन (C), रॉस टेलर, हेनरी निकोल्स, बीजे वाटलिंग (WK), कॉलिन डी ग्रैंडहोम, काइल जैमीसन, नील वैगनर, टिम साउथी, ट्रेंट बोल्ट