टीम इंडिया के पूर्व बल्लेबाज संजय मांजरेकर (Sanjay Manjrekar) को सोशल मीडिया पर रवींद्र जडेजा (Ravindra Jadeja) का कटु आलोचक माना जाता है. जडेजा की कई बेहतीन पारियों और गेंदबाजी के बावजूद मांजरेकर अक्सर उनका विरोध करते ही नजर आते हैं. वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप (World Test Championship) के फाइनल में तो जडेजा का प्रदर्शन और भी निराशाजनक रहा, जिसके चलते मांजरेकर को एक बार फिर उन पर हमला करने का मौका मिल गया है. टेस्ट चैंपियनशिप के इस खिताबी मुकाबले में भारतीय टीम के खेल का विश्लेषण करते हुए मांजरेकर ने कहा कि टीम इंडिया ने जडेजा को बतौर बल्लेबाज यहां मौका दिया था. लेकिन बड़े मैच में इसका खामियाजा ही भुगतना पड़ा.Also Read - केएल राहुल की गैरमौजूदगी इंग्लैंड दौरे पर भारतीय बल्लेबाजी क्रम के लिए बड़ी चुनौती होगी: मांजरेकर

बता दें भारतीय टीम ने अपनी प्लेइंग XI की घोषणा मैच से एक दिन पहले ही कर दी थी. हालांकि मैच का पहला दिन बारिश से धुल गया था और यहां टॉस भी नहीं हो पाया था. ऐसे में टीम इंडिया के पास परिस्थितियों को ध्यान में रखकर अपनी प्लेइंग XI में बदलाव करने का मौका था. Also Read - खिताबी मैच से पहले Sanjay Manjrekar की सलाह, राजस्थान को रहना होगा इस गेंदबाज से सावधान

बारिश को देखते हुए कई क्रिकेट पंडित मान रहे थे कि टीम इंडिया अपने प्लेइंग XI से एक स्पिनर को हटाकर मोहम्मद सिराच को मौका दे सकती है. लेकिन विराट कोहली के लिए यह कोई मुद्दा नहीं था क्योंकि वह जडेजा पर अपना भरोसा जता चुके थे. Also Read - फाइनल से चूकी आरसीबी, संजय मांजरेकर ने उठाए विराट कोहली पर सवाल

संजय मांजरेकर क्रिकेट वेबसाइट क्रिकइन्फो के एक चैट शो में बात कर रहे थे. इस दौरान उन्होंने कहा, ‘अगर आप यह देखें कि टीम इंडिया इस मैच के शुरू होने से पहले ही किस रणनीति से गई. जब आपको पहले से ही यह मालूम था कि यहां बारिश की संभावना बनी हुई है और इसके चलते टॉस भी एक दिन देर से ही हुआ.’

उन्होंने कहा, ‘ऐसी परिस्थितियों में दो स्पिन गेंदबाजों को खिलाना हमेशा ही बहस का विषय होगा. उन्होंने एक स्पिनर को बैटिंग के लिए चुना, जो जडेजा थे उनकी लेफ्टआर्म स्पिन बॉलिंग इसकी वजह कतई नहीं थी और इस चीज के मैं हमेशा ही खिलाफ हूं.’

मांजरेकर ने कहा, ‘आपको विशेषज्ञ खिलाड़ियों को टीम में चुनना था और अगर आप यह महसूस कर रहे थे कि पिच सूखी है और टर्निंग है, तब आपको अश्विन के जोड़ीदार के रूप में जडेजा को उनकी लेफ्टआर्म स्पिन के लिए चुनना चाहिए था. तब यह समझदारी भरा फैसला होता. मुझे लगता है कि टीम को इसी का खामियाजा भुगतना पड़ा, जैसा अकसर होता है.’

मांजरेकर ने कहा कि भारतीय टीम को यहां जडेजा के स्थान पर हनुमा विहारी को ही चुनना चाहिए था. क्योंकि यहां की मुश्किल परिस्थितियों में रन मुश्किल से आ रहे थे.

बता दें इससे पहले इस पूर्व बल्लेबाज ने इस टेस्ट मैच के लिए अपनी संभावित प्लेइंग XI की घोषणा की थी. तब मांजरेकर ने रवींद्र जडेजा और इशांत शर्मा को उस टीम में नहीं चुना था. उन्होंने इन दोनों खिलाड़ियों के स्थान पर हनुमा विहारी और मोहम्मद सिराज को चुना था.