सोमवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास का ऐलान करने वाले तेज गेंदबाज स्टुअर्ट बिन्नी (Stuart Binny) ने इंग्लैंड दौरे पर तत्कालीन कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) के हाथों से टेस्ट डेब्यू कैप मिलने को करियर का सर्वश्रेष्ठ पल बताया।Also Read - जब आप अच्छा नहीं खेलते हो लेकिन फिर भी जीत जाते हो तो मजा आता है: MS Dhoni

एशियानेट न्यूज को दिए इंटरव्यू में बिन्नी ने कहा, “मुझे लगता है कि भारतीय क्रिकेट से मेरा सबसे अच्छा पल वो है जब मुझे नॉटिंघम में एमएस धोनी से अपनी टेस्ट कैप मिली। यही वो पल है जिसे मैं सबसे ज्यादा संजो कर रखूंगा।” Also Read - IPL 2021: प्लेऑफ में क्वॉलीफाई करने के बाद नंबर 4 पर खेलें MS Dhoni: Gautam Gambhir

उन्होंने कहा, “धोनी ने मुझसे कहा कि मैं इस मौके का हकदार था और मैंने रणजी ट्रॉफी में तीन-चार सीजन में लगातार अच्छा प्रदर्शन किया था। और जाहिर है, अगर आप इसे रणजी ट्रॉफी में कर सकते हैं, तो ये विश्वास करने की बात है कि मैं टेस्ट क्रिकेट में भी अच्छा कर सकता हूं। उन्होंने मुझे ये भी आश्वासन दिया कि मुझे भारतीय टीम का पूरा समर्थन प्राप्त है, और वो चाहते थे कि मैं बाहर जाकर खुद को अभिव्यक्त करूं।” Also Read - IPL 2021: ब्रावो ने कही दिल की बात- CSK के लिए प्वाइंट्स जीतना, मैन ऑफ द मैच अवार्ड जीतने से कहीं बड़ा

बिन्नी ने खुलासा किया कि उन्हें उम्मीद नहीं थी कि 2014 के इंग्लैंड दौरे पर उन्हें टेस्ट डेब्यू का मौका मिलेगा। उन्होंने कहा, “ये एक बड़े सरप्राइज के रूप में आया क्योंकि मुझे लगा कि जब चयन आया तो मैं केवल सफेद गेंद के दौरे पर था। लेकिन, मुझे लगता है, उस समय भारत दो स्पिनरों (रविचंद्रन) अश्विन और (रवींद्र) जडेजा को एक साथ नहीं खेल सकता था। हमारे पास सातवें नंबर पर सीम और बल्लेबाजी का भी विकल्प था, जिससे टीम में थोड़ा संतुलन आया।”

उन्होंने कहा, “बहरहाल, मैं वास्तव में कॉल की उम्मीद नहीं कर रहा था। लेकिन, मेरे टेस्ट क्रिकेट खेलने के लिए तैयार होने को लेकर बातें हो रही थीं। चयनकर्ताओं ने मुझसे कहा था कि विदेश में टेस्ट क्रिकेट खेलने का मौका मिलेगा।”

नॉटिंघम में टेस्ट डेब्यू करने वाले बिन्नी से जब इंग्लैंड में बल्लेबाजी करने की चुनौतियों के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, “चुनौती क्रीज पर समय बिताने की थी। भारत में मेरी बल्लेबाजी शैली 20 मिनट के लिए क्रीज पर खड़े रहने और फिर अपना स्वाभाविक खेल खेलने का था। लेकिन इंग्लैंड में आप कभी भी पारी के किसी भी समय सेट नहीं होते हैं। आप सहज महसूस कर रहे होंगे, और फिर, थोड़ी सी बारिश के साथ मौसम बदलता है और गेंद स्विंग करना शुरू कर देती है।”

बिन्नी की ये बात विराट कोहली की अगुवाई में इंग्लैंड दौरे पर टेस्ट सीरीज खेल रही टीम इंडिया पर फिट बैठती है। पांच मैचों की इस सीरीज के दौरान रोहित शर्मा और केएल राहुल को छोड़ कोई भी भारतीय क्रीज पर सहज नजर नहीं आया।

लॉर्ड्स में शानदार जीत के बाद सीरीज में 1-0 से आगे हुई टीम इंडिया लीड्स में एक पारी और 76 रन से हारकर 1-1 से बराबरी पर आ गई है।